Working languages:
English to Hindi

pravinkashyap
Pravin

New Delhi, Delhi, India
Local time: 15:54 IST (GMT+5.5)

Native in: Hindi (Variants: Shuddha, Khariboli, Indian) Native in Hindi
  • PayPal accepted
  • Send message through ProZ.com
Feedback from
clients and colleagues

on Willingness to Work Again info
No feedback collected
Account type Freelance translator and/or interpreter
Data security Created by Evelio Clavel-Rosales This person has a SecurePRO™ card. Because this person is not a ProZ.com Plus subscriber, to view his or her SecurePRO™ card you must be a ProZ.com Business member or Plus subscriber.
Affiliations This person is not affiliated with any business or Blue Board record at ProZ.com.
Services Translation, Interpreting, Editing/proofreading, Subtitling, Transcription
Expertise
Specializes in:
Advertising / Public RelationsFinance (general)
Chemistry; Chem Sci/EngMathematics & Statistics
Government / PoliticsJournalism

Payment methods accepted Visa, MasterCard
Portfolio Sample translations submitted: 1
English to Hindi: Shri J P Nadda addresses Global Digital Health Partnership Symposium at Australia
General field: Science
Detailed field: Medical: Health Care
Source text - English
Ministry of Health and Family Welfare (On PIB website-(http://pib.nic.in/PressReleseDetail.aspx?PRID=1521218)
Shri J P Nadda addresses Global Digital Health Partnership Symposium at Australia

Digital health has great potential towards reducing inequity in provisioning and distribution of healthcare resources and services: J P Nadda
Posted On: 21 FEB 2018 12:00PM by PIB Delhi

“Digital health has great potential towards reducing inequity in provisioning and distribution of healthcare resources and services and it can greatly facilitate proactive treatment for disabled patients, children with developmental delays and deformities and people suffering from mental health illnesses and for those suffering from stigmatic infections such as HIV/AIDS, leprosy and tuberculosis.” This was stated by Shri J P Nadda, Union Minister for Health and Family Welfare during his address at the Global Digital Health Partnership Symposium at Sydney, Australia, today. The Union Health Minister spoke on the topic: The role of digital health in supporting improved health outcomes in India.

Mr. Michael Keenan, Minister of Human Services, Australia, Mr Jim Birch AM, Chair, Australian Digital Health Agency, Professor Robyn Norton, Co-founder and Principal Director of the George Institute for Global Health, Professor Ian Jacobs, President and Vice-Chancellor, UNSW Sydney, along with delegates from other countries were also present at the event.

Addressing the participants, Shri Nadda said that it is evident from experiences of various countries that well-designed digital health systems and services can reduce medical errors and cost of care while improving health system efficiency. “We have seen many sectors benefitting from digital revolutions in the past such as retail, banking, logistics etc. The next decade of digital revolution is going to be seen in healthcare; in fact, digital revolution is long overdue in healthcare which can transform the way our physicians, nurses, field staff and hospitals work to deliver care,” Shri Nadda stated.

The Union Health Minister informed the participants that the National Health Policy (2017) of India clearly articulates the healthcare aspirations of people of India with three distinct goals. “The first goal is to ensure district-level electronic database of information on health system components by 2020, which largely means moving away from paper-based data collection and recording in public health system to use of sophisticated computerized tools for improving functioning of hospitals and health system. The second goal is to strengthen the health surveillance system and establish registries for diseases of public health importance by 2020, where we intend to create registries to support epidemiological profiling of diseases to be better informed for targeted health interventions. The third goal pushes us to work for establishment of federated national e-health architecture, setting-up of health information exchanges and national Health Information Network by 2025,” Shri Nadda elaborated.

Speaking about various strategic initiatives taken by the Union Health Ministry, Shri Nadda said that Integrated Health Information Platform (IHIP) is intended to establish first Health Information Exchange by connecting various Hospital Information Systems from 10 Indian States. He also highlighted the work done by the Ministry in building Registries. “We have started building registries for health facility and have given unique identification numbers to more than 200 thousand public health facilities. Incorporation of health facilities from private sector is ongoing. Creation of registries for patients and providers is also planned to be taken-up under IHIP,” Shri Nadda added.

The Union Health Minister further said that the Health Ministry is in process of setting-up a National Digital Health Authority, a statutory body for creating frameworks, regulations and guidelines for interoperability and exchange of digital information. The Authority is also intended to promote adoption of eHealth standards. It will soon be set up through an Act of Parliament which would also address issues related to health data privacy and security. Shri Nadda also gave an overview of Health Data and Information Standards and Tele-medicine.

Reiterating India’s commitment towards Digital Health, Shri Nadda said that modernization of healthcare through digital technology is an important public policy agenda and India is committed to modernizing its health facilities and services using digital technology. “Under the Digital India Programme of Government of India, we are giving lot of focus on use of ICTs for improving service delivery and Health Ministry has rolled out large scale IT systems in different areas of healthcare ecosystem such as public health management, hospital information system, supply chain management, online services, tele-medicine, programme monitoring, mHealth etc,” Shri Nadda stated.

Stressing on the need of building collaborations, the Union Health Minister said that cyber security and protection of privacy of patient health data are major areas where cooperation from various countries would be required. “This area also requires collaboration with industry and academia to come-up with sustainable strategies to fight cybercrime. Similar collaborations would also be required when we intend to use Artificial Intelligence and Machine Learning in hospitals or in community settings for use by health workers,” Shri Nadda said.

***
Translation - Hindi
स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्रालय
http://pib.nic.in/PressReleseDetail.aspx?PRID=1521273


श्री जे पी नड्डा ने ऑस्ट्रेलिया में वैश्विक डिजिटल स्वास्थ्य भागीदारी संगोष्ठी को संबोधित किया

स्वास्थ्य सेवाओं और संसाधनों के प्रावधान और वितरण में असमानता को कम करने के लिए डिजिटल स्वास्थ्य में अपार संभावनाएं हैं: जे पी नड्डा

प्रकाशन तिथि: 21 FEB 2018 3:06PM by PIB Delhi

केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री श्री जे पी नड्डा ने आज सिडनी, ऑस्ट्रेलिया में वैश्विक डिजिटल स्वास्थ्य भागीदारी संगोष्ठी को संबोधित करते हुए कहा, “डिजिटल स्वास्थ्य में स्वास्थ्य देखभाल संसाधनों और सेवाओं के प्रावधान और वितरण में असमानता को कम करने की बहुत संभावना है और यह विकलांग रोगियों, अवरुद्ध विकास और विकृति वाले बच्चों एवं मानसिक स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों से पीड़ित लोगों तथा सामाजिक रूप से उपेक्षित संक्रमणों जैसे एचआईवी/एड्स, कुष्ठरोग और तपेदिक (टीबी) से पीड़ित लोगों को सक्रिय उपचार की सुविधा प्रदान कर सकता है।”

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री इस विषय पर बोल रहे थे: भारत में बेहतर स्वास्थ्य परिणामों में डिजिटल स्वास्थ्य की भूमिका।

इस अवसर पर ऑस्ट्रेलिया के मानव सेवा मंत्री मि. माइकल किनन, ऑस्ट्रेलियाई डिजिटल स्वास्थ्य एजेंसी के अध्यक्ष मि‍. जिम बिर्च, वैश्विक स्वास्थ्य जार्ज संस्थान के सह-संस्थापक और मुख्य निदेशक प्रोफेसर रोबिन नार्टन, यूएनएसडब्ल्यू सिडनी के अध्यक्ष और कुलपति प्रोफेसर इयान जैकब्स तथा साथ ही अन्य देशों के प्रतिनिधि भी उपस्थित थे।

प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए श्री नड्डा ने कहा कि विभिन्न देशों के अनुभवों से स्पष्ट हुआ है कि अच्छी तरह से डिज़ाइन किया गए डिजिटल स्वास्थ्य प्रणालियों और सेवाओं ने स्वास्थ्य व्यवस्था की गुणवत्‍ता में काफी सुधार किया है तथा इससे चिकित्सीय कमियों और देखभाल की लागत को भी कम किया जा सकता है। श्री नड्डा ने कहा, “हमने कई दूसरे क्षेत्रों जैसे खुदरा, बैंकिंग, लॉजिस्टक आदि को डिजिटल क्रांति से लाभ उठाते देखा है। वास्तव में, डिजिटल क्रांति की स्वास्थ्य सेवा में लंबे समय से जरूरत महसूस की जा रही , जो हमारे चिकित्सकों, नर्सों, फील्ड स्टाफ और अस्पतालों की देखभाल में बदलाव ला सकती है।”

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने प्रतिभागियों को बताया कि भारत की राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति (2017) स्पष्ट रूप से भारत के लोगों के स्वास्थ्य देखभाल की आकांक्षाओं को तीन विशिष्ट लक्ष्यों के रूप में व्यक्त करती है। श्री नड्डा ने विस्तार से बताते हुए कहा, “पहला लक्ष्य सन् 2020 तक स्वास्थ्य प्रणाली घटकों के बारे में जानकारी को जिला स्तर पर इलेक्ट्रॉनिक डाटाबेस के रूप में सुनिश्चित करना है, जिससे मुख्य रूप से अस्पतालों के कामकाज में सुधार के लिए परिष्कृत कम्प्यूटरीकृत तरीके का उपयोग करने के बाद सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली में कागज-आधारित डेटा संग्रह और रिकॉर्डिंग को हटाकर एकीकृत करने से स्वास्थ्य प्रणाली में काफी परिवर्तन लाया जा सकता है। दूसरा लक्ष्य स्वास्थ्य निगरानी प्रणाली को मजबूत करना और सन् 2020 तक सार्वजनिक स्वास्थ्य महत्व के रोगों के लिए रजिस्ट्रियों की स्थापना करना है, जहां हम महामारियों वाले रोगों के लिए रजिस्ट्रियों का निर्माण करना चाहते हैं, ताकि लक्षित स्वास्थ्य उपायों के लिए बेहतर जानकारी मिल सके। तीसरा लक्ष्य हमें संघीय राष्ट्रीय ई-स्वास्थ्य आर्किटेक्चर की स्थापना, स्वास्थ्य सूचना एक्सचेंजों की स्थापना और सन् 2025 तक राष्ट्रीय स्वास्थ्य सूचना नेटवर्क की स्थापना करना है।”

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा उठाए गए विभिन्न रणनीतिक पहलों के बारे में बोलते हुए, श्री नड्डा ने कहा कि एकीकृत स्वास्थ्य सूचना मंच (आईएचआईपी) का उद्देश्य 10 भारतीय राज्यों के विभिन्न अस्पतालों को जोड़कर सूचना के आदान-प्रदान के लिए पहले स्वास्थ्य सूचना एक्सचेंज को स्थापित करना है। उन्होंने बिल्डिंग रजिस्ट्रीज में मंत्रालय द्वारा किए गए कार्यों का भी स्पष्ट रूप से उल्लेख किया। श्री नड्डा ने कहा, “हमने स्वास्थ्य सुविधा के लिए रजिस्ट्रियों का निर्माण शुरू कर दिया है और 200 हजार से अधिक सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं को अद्वितीय पहचान संख्या प्रदान कर दिया है। निजी क्षेत्र में भी स्वास्थ्य सुविधाओं का निगमन चल रहा है। आईएचआईपी के तहत रोगियों और प्रदाताओं के लिए भी रजिस्ट्रियों का निर्माण किया जाना है।”

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने आगे कहा कि स्वास्थ्य मंत्रालय एक डिजिटल स्वास्थ्य प्राधिकरण स्थापित करने की प्रक्रिया में है, यह एक सांविधिक निकाय होगा जिसका कार्य प्रारूप तैयार करना, नियम बनाना और अन्तरसंक्रियता के लिए दिशानिर्देश तैयार करना तथा डिजिटल सूचना का आदान-प्रदान करना होगा। प्राधिकरण का कार्य ई-हेल्थ मानकों को अपनाने के लिए बढ़ावा देने का है। इसे जल्द ही संसद के एक अधिनियम के माध्यम से प्रतिपादित किया जाएगा जो स्वास्थ्य डेटा की गोपनीयता और सुरक्षा से संबंधित मुद्दों का भी ख्याल रखेगा।श्री नड्डा ने स्वास्थ्य डेटा और सूचना मानकों एवं टेली-मेडिसिस पर भी एक संक्षिप्त विवरण प्रस्तुत किया।

डिजिटल स्वास्थ्य के प्रति भारत की प्रतिबद्धता दोहराते हुए, श्री नड्डा ने कहा कि डिजिटल प्रौद्योगिकी के माध्यम से स्वास्थ्य सेवाओं का आधुनिकीकरण सरकार की एक महत्वपूर्ण नीति है और भारत डिजिटल प्रौद्योगिकी का उपयोग कर अपने स्वास्थ्य सुविधाओं और सेवाओं के आधुनिकीकरण के लिए प्रतिबद्ध है। श्री नड्डा ने कहा, “भारत सरकार के डिजिटल इंडिया कार्यक्रम के अंतर्गत, हम सेवा वितरण में सुधार के लिए आईसीटी के उपयोग पर बहुत ध्यान दे रहे हैं और स्वास्थ्य मंत्रालय ने स्वास्थ्य सेवा के विभिन्न क्षेत्रों जैसे सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रबंधन, अस्पताल सूचना प्रणाली, आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन, ऑनलाइन सेवाएं, टेली-मेडिसिन, कार्यक्रमों की निगरानी, एम-स्वास्थ्य इत्यादि में बड़े पैमाने पर आईटी सिस्टम का उपयोग कर रहा है।

सहकार्यता की आवश्यकता पर बल देते हुए, केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य डेटा की गोपनीयता की सुरक्षा और साइबर सुरक्षा जैसे प्रमुख क्षेत्रों में विभिन्न देशों के सहयोग की आवश्यकता होगी। श्री नड्डा ने कहा, “इस क्षेत्र को साइबर अपराध से लड़ने के लिए उचित रणनीतियों के साथ उद्योग जगत और शिक्षा-जगत के सहयोग की भी आवश्यकता है। जब हम आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (कृत्रिम खुफिया जानकारी) और मशीन लर्निंग का इस्तेमाल अस्पताल में या सामुदायिक क्षेत्र में स्वास्थ्य कर्मचारियों द्वारा उपयोग करने के लिए करना चाहते हैं, तो हमें इसी तरह के आपसी सहयोग की आवश्यकता होगी।”



***



Experience Years of experience: 15. Registered at ProZ.com: Feb 2018.
ProZ.com Certified PRO certificate(s) N/A
Credentials N/A
Memberships N/A
Software Adobe Acrobat, Adobe Photoshop, Microsoft Excel, Microsoft Office Pro, Microsoft Word
Bio
No content specified


Profile last updated
Feb 24, 2018



More translators and interpreters: English to Hindi   More language pairs



Your current localization setting

English

Select a language

All of ProZ.com
  • All of ProZ.com
  • Term search
  • Jobs
  • Forums
  • Multiple search