Working languages:
Hindi to English
English to Hindi

vivek chouksey

Jabalpur, India, India
Local time: 02:25 IST (GMT+5.5)

Native in: Hindi Native in Hindi
Account type Freelance translator and/or interpreter
Data security Created by Evelio Clavel-Rosales This person has a SecurePRO™ card. Because this person is not a ProZ.com Plus subscriber, to view his or her SecurePRO™ card you must be a ProZ.com Business member or Plus subscriber.
Affiliations This person is not affiliated with any business or Blue Board record at ProZ.com.
Services Translation, Editing/proofreading, Subtitling
Expertise
Specializes in:
Social Science, Sociology, Ethics, etc.Religion
PsychologyPoetry & Literature
Education / PedagogyNutrition
LinguisticsJournalism
IT (Information Technology)Idioms / Maxims / Sayings

Preferred currency INR
Portfolio Sample translations submitted: 2
English to Hindi: Gender Differences Are Real
Source text - English
Are men and women different? They're different anatomically, of course, but are they different in any other ways? Do their hormonal differences influence their behaviors and attitudes? Do they process information differently?

Feminists and gay theorists often say "no" to these questions. They maintain that the differences between men and women are mostly the result of socialization in male-dominated societies, and that it is patriarchal oppression that has relegated women to feminine gender roles. Biology is said to have little to do with abilities or sex roles in our society.

Some feminist writers actually believe that the idea of "two sexes" (male and female) is a myth. Dr. Anne Fausto- Sterling, writing in "The Five Sexes: Why Male and Female Are Not Enough," says that western culture is defying nature by maintaining a "two-party sexual system," for "biologically speaking, there are many gradations running from female to male; and depending on how one calls the shots, one can argue that along the spectrum lie at least five sexes--and perhaps even more." (1)

Sexual Mythology Versus Scientific Facts
Professor Steven Goldberg, Chairman of the Department of Sociology at City College of New York, has written a book with the provocative title, Why Men Rule--A Theory of Male Dominance. In the book, he debunks much of the feminist mythology surrounding the issue of differences between males and females.

Goldberg maintains that although males and females are different in their genetic and hormonally-driven behavior, this does not mean that one sex is superior or inferior to another. Each gender has different strengths and weaknesses. However, he believes the neuro-endocrinological evidence is clear: The high level of testosterone in males drives them toward dominance in the world, while the lack of high levels of this hormone in women creates a natural, biological push in the direction of less dominant and more nurturing roles in society.

Goldberg writes:

"There is not, nor has there ever been, any society that even remotely failed to associate authority and leadership in suprafamilial areas with the male. There are no borderline cases." (3)

Feminist theorists maintain that socialization is a primary reason why males have dominated the world's cultures, but Goldberg counters:

"...if socialization alone explains why societies are patriarchal, there should be any number of societies in which leadership and authority are associated with women, and one should not have to invoke examples of non-patriarchal societies that exist only in myth and literature." (4)

Biological Differences
To say that men and women are the "same" is to deny physical reality. Child psychologist Dr. James Dobson relates a humorous story about men and women in his best-seller, Straight Talk to Men and Their Wives. Several years ago a drug company conducted an experiment with all of the women in a small fishing village in South America. The women were all given an experimental birth control pill. They were given the same pill on the same date, and the prescription was terminated after three weeks to permit menstruation.

"That meant, of course," he says, "that every adult female in the community was experiencing premenstrual tension at the same time. The men couldn't take it. They all headed for their boats each month and remained at sea until the crisis had passed at home. They knew, even if some people didn't, that females are different from males . . . especially every twenty-eight days." (5)

Science makes plain that males and females are different from the moment of conception. As Amram Scheinfeld notes in Your Heredity and Environment, these differences between men and women are evident in the chromosomes which carry inherited traits from the father and mother. Humans have 23 pairs of chromosomes within each cell; twenty-two of these are alike in both males and females. But, says Scheinfeld, "...when we come to the twenty-third pair, the sexes are not the same. . . every woman has in her cells two of what we call the X chromosome. But a man has just one X---its mate being the much smaller Y."

It is the presence of this influential Y chromosome, says Scheinfeld, "that sets the machinery of sex development in motion and results in all the genetic differences that there are between a man and a woman." (6) Right down to the cellular level, males and females are different.

Sex differentiation takes place immediately as the male or female begins to develop within the womb. The sex hormones --primarily estrogen and testosterone--have a significant impact on the behavior of males and females. Why do boys typically like to play with trucks and girls like to play with dolls? Feminists usually claim this is the result of socialization, but there is growing scientific evidence that boys and girls are greatly influenced by their respective hormones.

Hormones Trigger Aggression or Nurture
In an ABC special, "Boys and Girls are Different," television host John Stossel described several studies conducted by universities on what appear to be innate differences between males and females. He explained the following:

At the University of Wisconsin, researchers injected testosterone into unborn female monkeys. Monkeys engage in very sex-stereotyped behavior, according to Stossel; the males are aggressive and fight, while the female monkeys typically groom and nurture the young. When the testosterone- injected females were born, they didn't groom or nurture their children. They fought and behaved like males.

In one out of 100,000 pregnancies, a genetic defect causes human female babies to be exposed to a bath of the male hormone androgen. These are CAH girls--short for a condition called congenital adrenal hyperplasia. These children are born female, but they behave like "tomboys." The male androgen influences their behaviors and desires. These girls typically play with "boy" toys more than their female counterparts.

Child psychologist Michael Lewis conducted an experiment with one-year-old boys and girls to see how they would react to being separated from their mother by a barrier. The boys tried to knock the barrier down while the girls stood passively, crying for help. (7)

Brain Differences
Males and females are not only markedly different in the hormones that drive them, but they are also different in the way they think. The brains of men and women are actually wired differently.

George Mason University professor Robert Nadeau, the author of S/he Brain: Science, Sexual Politics, and the Feminist Movement, describes significant differences between male and female brains. In an essay on this subject in The World & I, (November 1, 1997), Nadeau observes:

"The human brain, like the human body, is sexed, and differences in the sex-specific human brain condition a wide range of behaviors that we typically associate with maleness or femaleness." (8)

Nadeau says that the sex-specific differences in the brain are located both in the primitive regions, and in the neocortex--the higher brain regions. The neocortex contains 70 percent of the neurons in the central nervous system, and it is divided into two hemispheres joined by a 200-million fiber network called the corpus callosum.

The left hemisphere controls language analysis and expression and body movements while the right hemisphere is responsible for spatial relationships, facial expressions, emotional stimuli, and vocal intonations.

Men and women process information differently because of differences in a portion of the brain called the splenium, which is much larger in women than in men, and has more brain-wave activity. (9) Studies have shown that problemsolving tasks in female brains are handled by both hemispheres, while the male brain only uses one hemisphere.

Differences in the ways men and women communicate is also a function of sex-specific areas of the brain. Women seem to have an enhanced awareness of "emotionally relevant details, visual cues, verbal nuances, and hidden meanings," writes Nadeau. Similarly, while male infants are more interested in objects than in people, female infants respond more readily to the human voice than do male infants.

Different Brains: Different Abilities
The difference between the male and female brain is not evidence of superiority or inferiority, but of specialization. Michael Levin, writing in Feminism and Freedom, notes that, in general, males have better spatial and math skills than females. While feminists often claim that these differences are due to social expectations--and if girls were encouraged to be mathematicians, they would have the same ability as boys--there is evidence that these differences are inherited and appear in childhood, actually increasing during puberty. On the other hand, girls tend to be more vocal than boys, are better at hearing higher frequencies, and do better than boys in reading and vocabulary tests.

Males have a vastly superior ability to visualize a threedimensional object than do women. This gives the male his often-observed superior abilities in math and geometrical reasoning. In addition, males are better skilled in gross motor movements than are girls. (10)

Strength and Endurance
Not only are men and women fundamentally different in the way their brains are wired, they are also vastly different in physical strength and endurance. The differences are rooted within both the genes and the hormones of males and females. Michael Levin notes that women only have 55- 58 percent of the upper body strength of men and on average, are only 80 percent as strong as a man of identical weight. Sex differences also appear by the age of three in the ability of males and females to throw a ball far and accurately. (11)

Feminist leaders naively believe that physical differences between males and females should not be taken into consideration when hiring women to become policemen, firemen, or combat soldiers. Yet as Levin points out, females simply do not have the strength or endurance necessary to be effective combat soldiers. Yet in order to accommodate women who desire to be combat soldiers, the military has designed less stressful physical exercises and standards which would allow them to participate in roles for which they have sought inclusion.

Facing Reality
Contrary to the wishful thinking of feminists, bisexuals, and transsexuals, there are profound differences between males and females--and those differences are programmed within the DNA from the moment of conception. The brains of females and males are clearly "sexed," and testosterone and estrogen are the juices that augment maleness and femaleness.

To be sure, gender-distorting prenatal abnormalities do affect some individuals, and may increase the likelihood that such an afflicted person will later self-identify as transgendered or transsexual (and in some cases, homosexual).

But barring such unfortunate developmental errors--- which we should not normalize as if they were not disruptions in normal growth and development--the simple truth remains: maleness and femaleness are innate and integral parts of our human design.

Not content with denying the reality of two sexes, a subgroup within the gay rights movement--the "transgendered" --is attempting to normalize crossdressing and transsexualism (where the person has a sex change from male to female, or female to male). Some of these transsexuals actually prefer to live as "she-males" - having the physical characteristics of both men and women.
Translation - Hindi
क्या महिला और पुरूष अलग होते हैं? हाँ, शारीरिक संरचना ज़रूर अलग होती है, पर क्या उनमें और भी कुछ अलग होता है? क्या उनके हारमोनों की भिन्नता का असर उनके व्यवहार और प्रवृत्तियों पर भी पड़ता है? क्या वे एक ही जानकारी को वे अलग अलग तरीके से समझते हैं?

नारीवादी और समलैंगिक (गे) आलोचक अक्सर इन सवालों का जवाब 'ना' में देते हैं. उनका तर्क यह होता है की, जो भी अन्तर देखने में आता है वह ज्यादातर पितृसत्तात्मक सामाजिक व्यवस्था का परिणाम है, और पितृसत्ता के दमन के कारण स्त्रियों को घर गृहस्थी के कामों तक सीमित कर दिया गया. जैविक और प्राकृतिक संरचना क्षमता और भूमिका(लिंग आधारित) का निर्धारण नहीं करती.

कुछ नारीवादीयों का मानना है की "भिन्न लिंग" (यानि स्त्री और पुरूष) का विचार एक भ्रम या मिथ्या धारणा से अधिक कुछ भी नहीं है. डॉ. एन फाउस्तो-स्टर्लिंग, अपनी पुस्तक "The Five Sexes: Why Male and Female Are Not Enough", में लिखती हैं की, हमारी सभ्यता ने "लिंग आधारित द्विदलीय प्रणाली" लागू करके सीधे प्रकृती का ही उपहास उड़ाया है. क्योंकि, "जैविक दृष्टी से अगर देखें तो मादा से नर के ब्लेक एंड व्हाइट के बीच कई धूसर पड़ाव भी हैं, और जिस प्रकार से हम देख पाते है, उसके आधार पर कहा जा सकता है की हमारे आस पास नर या मादा ही नहीं बल्कि कम से कम पाँच तरह की लैंगिकताओं वाले लोग मौजूद हैं, या शायद और भी ज़्यादा".

नर-मादा प्रणाली को सिरे से नकार कर भी कुछ लोग संतुष्ट नहीं हैं, समलैंगिक अधिकारों की वकालत करने वाले एक धड़े के एक उप-वर्ग ---ट्रांस जेन्डर्स--- ने पश्चिमी देशों में क्रॉस-ड्रेसिंग (विपरीत लिंग की पोशाकें पहनना) और ट्रांस-सेक्सुअल (लिंग परिवर्तन) जैसी बातों को सामान्य रूप से लिए जाने की मांग शुरू कर दी है. और कुछ तो इस हद तक भी चले गए हैं की वे शी-मेल बनकर जीवन बिता रहे हें. (शी-मेल: स्त्री और पुरूष दोनों के शरीरिक लक्षणों वाला व्यक्ती ).

मिथ्या धारणाएं और वैज्ञानिक तथ्य

प्रोफेसर स्टीवन गोल्डबर्ग (समाजशास्त्र विभाग के अध्यक्ष, सिटी कॉलेज ऑफ़ न्यूयार्क), ने अपनी भड़काऊ शीर्षक वाली पुस्तक, "Why Men Rule--A Theory of Male Dominance" में उन कई धारणाओं को खारिज किया है जिनके सहारे नारीवादी अपनी बात रखते हैं और जिन्हें स्त्री-पुरूष के बीच अंतरों का कारण बताया जाता है.

गोल्डबर्ग के अनुसार यह सच है की स्त्री और पुरूष जेनेटिक व हारमोन के स्तर पर ही मानसिकता और व्यवहार में काफी अलग होते हैं, पर इसका यह मतलब बिल्कुल नहीं निकला जाना चाहिए की पुरूष या स्त्री में कोई किसी से ऊंचा है या हीन है.
अपनी अपनी क्षमताएं और कमजोरियां हैं, जो की प्रकृती की देन हैं. पर, उनकी मानें तो न्यूरो-एंडोक्राइन सिस्टम का पर हुए शोध इस बात का साफ सुबूत हैं की, टेस्टास्टोरोन हारमोन का उच्च स्तर पुरुषों को आक्रामक बनता है और उन्हें अपने माहौल, लोगों व्यवस्था को काबू में कर लेने के लिए प्रेरित करता है. वहीं महिलाओं में इस हारमोन का निम्न स्तर उन्हें समाज में कम आक्रामक, तटस्थ और ममत्व भरी घरेलू भूमिका के लिए प्रेरित करता है.

वे आगे लिखते हैं,

ऐसा कोई भी समाज या सभ्यता नहीं है और न कभी रहा है, जिसने परिवार या समूह के मुखिया के पद या नेतृत्व को कहीं न कहीं पुरूष से सम्बद्ध न किया हो. और इसका कोई अपवाद इतिहास में भी नहीं मिलता."

नारीवादी आलोचकों का मानना है की समाज के तौर तरीके, रीति रिवाज ऐसे प्रमुख कारण हैं की जिनके कारण पुरुषों के हाथों में सारी सभ्यताओं और संस्कृतियों की बागडोर चली गई, पर गोल्डबर्ग इसका प्रतिवाद करते हैं:

".....अगर सामाजिक तौर तरीकों और रीति रिवाजों की थ्योरी ही इस बात को पूरी तरह समझा पातीं की क्यों समाज पितृसत्तात्मक है, तो ऐसीं कुछ संस्कृतियाँ और समाज भी होते जिनमें नेतृत्व और प्रभुत्व को स्त्रीयों से जोड़ कर देखा जाता, ऐसी कोई मिसाल नहीं है, अगर आप कुछ दंतकथाओं और साहित्य में पाए जाने वाले पूरी तरह गैर-पितृसत्तात्मक व्यवस्था वाले समाजों का ज़िक्र न करें तो."

जैविक अन्तर

यह कहना की नर और नारी 'एक जैसे' हैं, सीधे सच को नकारना ही है. बाल मनोवैज्ञानिक डॉ. जेम्स डोबसन अपनी बेस्ट-सेलर पुस्तक "Straight Talk to Men and Their Wives" में एक बड़ी मज़ेदार घटना का को याद करते हैं. कई सालों पहले एक दवा कंपनी ने एक प्रयोग के तहत, दक्षिण अमेरिका के मछुआरों के एक गाँव को तजुर्बे के लिए चुना. वहां की सभी युवा महिलाओं को कुछ महीनों तक एक साथ गर्भनिरोधक गोली का सेवन कराया गया. तीन सप्ताह बाद दवा बंद कर दी जाती जिससे की मासिक धर्म (menstruation) में बाधा न आए.

"इसका सीधा अर्थ था की," वह आगे बताते हैं, "उस गाँव की सभी व्यस्क महिलाएं एक साथ मासिक पूर्व तनाव (premenstrual tension) अनुभव कर रहीं थीं. और वहां के पुरूष इस बात से हैरान-परेशान, एक साथ सभी अपनी नावें उठा कर समुद्र का रुख कर लेते थे, और तब तक वहीं रहते थे, जब तक की घर में संकट का समय बीत नहीं जाता था. भले ही कुछ लोग इस बात से अनजान हों, पर वह मछुआरे जानते थे, की औरतें मर्दों से अलग होतीं हैं......... विशेषकर हर २८ दिनों में."


विज्ञान और टेक्नोलोजी ने अब यह साफ़ कर दिया है की नर और नारी गर्भाधान के क्षण से ही अलग होते हैं. एमरम शेंफील्ड का " Your Heredity and Environment", में कहना है की, महिला और पुरूष का यह अन्तर क्रोमोसोम के स्तर पर ही दिखने लगता है, जिनके द्वारा माता पिता के गुण संतान में आते हैं. मानवों की हर कोशिका में क्रोमोसोम के २३ जोड़े होते हैं, उनमें से २२ लड़के और लड़की में सामान रूप से पाए जाते हैं. पर, शेंफील्ड का कहना है, "....जब हम २३वे जोड़े पर नज़र डालते हैं, तो पाते हैं की कुछ बातें एक सी नहीं हैं ... हर औरत के पास उसकी हर एक कोशिका में दो एक्स क्रोमोसोम होते हैं. पर पुरूष के पास यह एक्स क्रोमोसोम सिर्फ़ ही होता है --- काफी छोटा वाई क्रोमोसोम उसके साथ जोड़े में होता है."

यह प्रभुत्वशाली वाई क्रोमोसोम की उपस्थिति ही है, शेंफील्ड के अनुसार, "जो लैंगिक विकास की सारी मशीनरी का सञ्चालन करती है और जिसके कारण सारे अन्तर मूल रूप से जेनेटिक स्तर पर ही देखने मिल जाते हैं."
तो भिन्नताएँ सीधे कोशिका के स्तर पर हैं.

लिंग आधारित अंतरों की शुरुआत भ्रूण के विकास के साथ ही शुरू हो जाती है. सेक्स हारमोन - मुख्य रूप से इस्ट्रोजन और टेस्टास्टोरोन --- पुरूष और नारी के स्वाभाव में इनका काफ़ी अधिक प्रभाव पड़ता है. लड़के क्यों कार और बंदूकों वाले खिलौने पसंद करते हैं पर क्यों लड़कियां गुड्डे-गुड़िया, डॉल और टेडी जैंसे खिलौने पसंद करतीं हैं? आमतौर पर फेमिनिस्ट्स क दावा होता है की यह सामाजिक कारणों से होता है, पर अब हमारे पास यह कहने के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण हैं की लड़कियां और लड़के अपने अपने हारमोन स्तर से प्रभावित होते हैं.

ममता या आक्रामकता: हारमोन का खेल

'ए बी सी चैनल' के एक विशेष कार्यक्रम, "Boys and Girls are Different", में टीवी होस्ट जॉन स्टोशेल ने कई विश्वविद्यालयों द्वारा नारी और पुरूष के बीच जन्मजात अंतरों को पहचानने के किए गए कई अध्ययनों के बारे में जानकारी दी. इन अध्ययनों के अनुसार:

विस्कोंसिन विश्वविद्यालय में, वहां के वैज्ञानिकोंद्वारा मादा बंदरों के भ्रूण को टेस्टस्टोरोन के टीके लगाए गए . स्टोशेल के अनुसार, बंदरों का स्वाभाव और व्यव्हार लिंग के अनुसार बहुत अलग-अलग होता है, नर बन्दर स्वाभाव से आक्रामक और लडाकू होते हैं, और लगभग हमेशा ही मादा बंदरों को समूह के बच्चों की देखभाल करते और उनके बाल संवारते देखा जाता है. पर उन मादा बंदरों ने, जिन्हें टेस्टस्टोरोन का टीका जन्म से पहले दिया गया था, अपने बच्चों की देखभाल या उनके बालों को संवारने में कभी कोई रूचि नहीं दिखाई. वह भी नर बंदरों की ही तरह व्यव्हार कर रहीं थीं और स्वाभाव में काफी लड़ाकू और आक्रामक थीं.


मानवों में लगभग हर एक लाख भ्रूणों में से किसी एक मादा भ्रूण को जेनेटिक त्रुटी के चलते गर्भ में ज़रूरत से काफ़ी अधिक एंड्रोजन (एक पुरूष हारमोन) मिल जाता है. ऐसी लड़कियों को 'सी ऐ एच गर्ल्स' का नाम दिया गया है. (सी ऐ एच--------> congenital adrenal hyperplasia). ऐसी लड़कियां जन्म तो लड़की के रूप में लेतीं हैं, पर उनका व्यावहार और बर्ताव 'टॉम बॉय' जैसा होता है. पुरूष हारमोन एंड्रोजन उनकी इच्छाओं और स्वाभाव को गहरे तक प्रभावित करता है. ऐसी लड़कियों को बाकी लड़कियों के मुकाबले 'लड़कों के खिलौनों' में ज़्यादा रूचि होती है.


बाल मनोवैज्ञानिक माइकल लेविस ने एक प्रयोग के तहत, एक साल के कुछ बच्चों (लड़के और लड़कियां दोनों) को उनकी माँ से एक कमज़ोर सी दीवार द्वारा अलग कर दिया गया. लड़के दीवार गिराने की कोशिश करते रहे वहीं लड़कियां बिना कुछ किए वहीं खड़ी रोतीं रहीं.



मष्तिष्क

स्त्री और पुरूष केवल उनके स्वाभाव का संचालन करने वाले हारमोनों में ही नाटकीय रूप से अलग नहीं होते, बल्कि सोच-विचार में भी उनमें काफी फर्क होता है. स्त्रीयों और पुरुषों की दिमागी संरचना अलग होती है.



जॉर्ज मेसन विश्वविद्यालय के रॉबर्ट नादे जो की "S/he Brain: Science, Sexual Politics, and the Feminist Movement", के लेखक हैं, बताते हैं की पुरुषों की दिमागी संरचना स्त्रीयों से काफ़ी अलग होती है. वे इसी विषय पर अपने एक लेख "The World & I" , (नवम्बर 1, 1997), में लिखते हैं,

"जैंसे की शरीर अलग हैं, उसी तरह नर मष्तिष्क और मादा मष्तिष्क में भी अन्तर है, और ये अन्तर ही ऐसे सामाजिक बर्ताव या तौर-तरीकों का कारण हैं जिन्हें हम स्त्री या पुरूष के साथ जोड़ कर देखते हैं."

नादे के अनुसार लिंग आधारित यह अन्तर प्राचीन-मष्तिष्क ( primitive brain ---------> मूल प्रवृत्तियों के लिए जिम्मेदार, जो मानव के साथ हर प्राणी में पायीं जातीं हैं) और नियोकोर्टेक्स---- उन्नत मष्तिष्क (मानवों में पाया जाने वाला) दोनों ही क्षेत्रों में पाया जाता है.


नियो कोर्टेक्स में केंद्रीय तंत्रिका तंत्र के 70 प्रतिशत न्यूरोन होते हैं, और यह अखरोट की तरह दो भागों में विभाजित रहता है, इन दोनों को कोर्पस कोलोसम नाम का बीस करोड़ तंत्रिकाओं का नेटवर्क जोड़ता है.


मष्तिष्क का दांया भाग भाषा को समझने, अभिव्यक्ती, अंगों के हिलाने डुलाने का काम करता है, जबकि बांया भाग गणितीय व ज्योमेट्रिक क्षमता, चेहरे के भाव, भावनाओं, और आवाज़ में उतार-चढाव के लिए जिम्मेदार होता है.

महिलाएं पुरुषों से अलग ढंग से सोचतीं हैं क्योंकि उनके मष्तिष्क में स्प्लेनियम नाम का हिस्सा काफ़ी बड़ा होता है और वह सक्रीय भी अधिक रहता है. अध्ययन बताते हैं की, समस्याएं सुलझाने में महिलाएं दिमाग के दोनों हिस्सों का उपयोग करतीं हैं, पर पुरूष का दिमाग एक ही भाग का उपयोग कर पाता है.

आगे नादे लिखते हैं की, स्त्री और पुरुषों के संवाद स्थापित करने की अलग शैली उनके मष्तिष्क के लिंग आधारित अंतरों के कारण हैं. अक्सर देखने में आता है की महिलाओं के पास 'भावनात्मक छठी इन्द्री' होती है, जो "दूसरे की भावनाएं बिना कहे सुने बारीकी से पहचान लेने, चेहरे के बारीक भाव पढ़कर, या आवाज़ में छोटे बदलावों को पकड़ लेने और कही गई बातों का छिपा हुआ अर्थ निकाल लेने जैसी बातों में महिलाओं को पुरुषों से कई गुना ज़्यादा सक्षम बना देती है." इसी प्रकार, नवजात शिशु अगर लड़का है तो वह वस्तुओं को देखने में अधिक रूचि दिखता है, वहीं नवजात लड़कियां चेहरों और बातचीत पर लड़कों से ज़्यादा प्रतिक्रिया देतीं हैं.

अलग मष्तिष्क : अलग क्षमतायें

स्त्रीयों और पुरुषों के मष्तिष्क के अन्तर किसी एक लिंग को ऊँचा या हीन साबित नहीं करते, पर यह ज़रूर बताते हैं की उनकी क्षमतायें कहाँ हैं. Feminism and Freedom पुस्तक के लेखक, माइकल लेविन, बताते हैं की, आमतौर पर, बनिस्बत महिलाओं के, पुरुषों में जटिल त्रिआयामी और गणितीय क्षमता ज़्यादा होती है . नारीवादियों का तर्क अक्सर यही होता है की यह अन्तर केवल सामाजिक आशाओं के कारण होता है ----- अगर लड़कियों को भी गणितज्ञ बनने के लिए प्रोत्साहित किया जाए तो, उनकी क्षमतायें और प्रदर्शन लड़कों जैंसा ही होगा----- पर आज तंत्रिका विज्ञान के पास इस बात के पर्याप्त प्रमाण हैं की यह अन्तर जन्मजात होते हैं और बचपन से ही दिखाई देने लगते हैं; और जैसे जैसे बच्चे व्यस्क होने लगते हैं, यह अन्तर और भी साफ होते जाते हैं. लड़कों के विपरीत, लड़कियां बातचीत में ज़्यादा कुशल होतीं हैं, वे पुरुषों से अधिक साफ सुन सकतीं हैं और पढ़ना एवं शब्दावली(VOCABULARY) लड़कों से जल्दी सीखतीं हैं साथ ही भाषा में उनका प्रदर्शन लड़कों से अच्छा होता है.

पुरुषों में किसी भी वस्तु, स्थान या आकार की त्रि-आयामी कल्पना कर सकने की मानसिक क्षमता बहुत अधिक होती है. और यही बात पुरुषों के लिए गणित और ज्योमेट्री जैसे त्रि-आयामी विषय काफी सुगम बना देती है; और यही पुरुषों के लिए हाथ, पैरों व शरीर के जटिल संचालन की अतिरिक्त क्षमता देती है. (जैसे की विशालकाय जटिल मशीनें संचालित करना, फुटबॉल, क्रिकेट, गोल्फ जैसे खेलों में जटिल मूवों (MOVES) का प्रदर्शन, बचाव कार्य जैसे काम).

शारीरिक शक्ति और स्टेमिना

महिलाओं और पुरुषों की मष्तिष्क ही संरचना के मामले में ही अलग नहीं होते, शरीर की शक्ति और स्टेमिना (अधिक समय तक भारी श्रम सहन करने की क्षमता) में भी वे अलग होते हैं. यह अन्तर जेनेटिक भी होता है और दोनों का अलग हारमोन सिस्टम भी इसका कारण होता हैं. माइकल लेविन लिखते हैं महिला शरीर में कमर से ऊपर की मांसपेशियों में पुरुषों की तुलना में औसतन केवल 55-58 प्रतिशत ही ताकत होती है, अपने ही वजन के के पुरूष की तुलना में वे 20 प्रतिशत कम ज़ोर लगा पातीं हैं. यह अन्तर तीन साल की उम्र से ही दिखना शुरू हो जाते हैं, जब देखने में आता है की बच्चे, बच्चियों की तुलना में अधिक सटीक और ज़्यादा दूर तक निशाना लगाने में सक्षम होते हैं.

नारीवाद की वकालत करने वाले बड़ी ही सहजता से कहते पाए जाते हैं की पुलिस, अग्निशामक व बचाव कर्मी या पैदल सैनिक की नियुक्तियों के लिए चुनाव करते समय स्त्रीयों और पुरुषों के शारीरिक अन्तर पर ध्यान नहीं दिया जाना चाहिए. पर इस पर लेविन का तर्क है की, साफतौर पर महिला शरीर में इतनी ताकत और सहनशक्ति नहीं होती की वे युद्ध की स्थिति में पैदल सैनिक की जिम्मेदारियों को सही ढंग दे पूरा कर सकें. पर फ़िर भी पोलिटिकली करेक्ट होने के लिए या नारीवादियों के दबाव में आकर सेना ने ऐसी महिलाओं की नियुक्ति शुरू कर दी है जो पैदल सेना का हिस्सा बनाना चाहतीं हैं. अब सेना ने उनके लिए उनके लिए मानक (स्टेंडर्ड) ढीले रखे हैं और ड्रिल-कसरतों को भी काफी सरल रखा है जिससे की वह पुरुषों के बराबर पदों तक आसानी से जा सकें. पर मैदान में दुश्मन महिला सैनिक से लड़ने अपनी किसी महिला सैनिक को नहीं भेजेगा.

सच सामने है

नारीवादियों की, बाई-सेक्सुअल्स, ट्रांस-सेक्सुअल्स की जो भी इच्छाएं, कल्पनाएँ या महत्वकान्क्षाएं हों, पर सच यही है की महिला और पुरूष --- और उनके बीच अन्तर, यह सभी कुछ हमारे डी.एन.ए में पहले से प्रोग्राम रहता है, गर्भाधान के पहले ही पल से. महिला और पुरूष की दिमागी संरचना में अन्तर साफ है, और टेस्टास्टोरोन और इस्ट्रोजन शरीर में दौड़ता वह रस है जो पुरूष को पुरुषत्व, और स्त्री को स्त्रीत्व देता है.

और यह बात भी उतनी ही सच है, की माता-पिता से मिली लिंग आधारित असमान्यताएं कुछ एक लोगों में असर दिखतीं हैं, और संभावना बढ़ा देतीं हैं की पीड़ित बच्चा आगे चलकर ट्रांस-जेंडर या ट्रांस-सेक्सुअल बन जाए (कुछ मामलों में, समलैंगिक भी).

पर अगर प्रकृति की इन (दुर्भाग्यशाली) गलतियों को नज़रंदाज़ कर दें--------- प्रकृति की त्रुटी के ऐसे मामले अपवाद ही हैं और सामान्य रूप में नहीं लिए जाने चाहिए---------- तो भी या सीधा सा सच सामने है: पुरूष होना और स्त्री होना यानि मानव संरचना का अलग पुर्जा होना है, अदला बदली कम से कम मानव द्वारा तो मुश्किल है.
Hindi to English: पूँजीवाद से पहले लोकतंत्र की दुर्गति
Source text - Hindi
2. हमारी हताशा की जड़ इतिहास के एक अदद हादसे में निहित है। भारत ने पहले लोकतंत्र का वरण किया और बाद में पूँजीवाद का। वह पूर्ण लोकतंत्र तो 1950 में ही बन गया लेकिन बाजार की ताकतों को खुली छूट उसने 1991 में जाकर दी। शेष विश्व में यह इससे ठीक उलट हुआ। वहाँ पहले पूँजीवाद आया, फिर लोकतंत्र। अर्थात पहले समृद्धि की निर्माण किया गया और फिर इस बात पर बहस छिड़ी कि इस समृद्धि का वितरण कैसे किया जाए।

इस ऐतिहासिक हादसे का मतलब यह है कि भारत का भविष्य अकेले पूँजीवाद की देन नहीं होगा। वह जाति, धर्म तथा गाँव की रूढ़िवादी ताकतों, देश के बौद्धिक जीवन पर 60 साल से हावी वामपंथी एवं समाजवादी ताकतों और वैश्विक पूँजीवाद की नई ताकतों के बीच रोजाना के संवाद से उभरकर सामने आएगा।
Translation - English
3. The root cause of our despondency is grounded in a misadventure. India committed itself to democracy much before it went ahead for capitalism. It has been a total democracy since 1950 but it wasn't until 1991 the market forces got liberation. The case has exactly been opposite with the rest of the globe. Here, democracy fallowed capitalism. That means, wealth was created before arguing on on the ways of its distribution.

The sole meaning of this historical misadventure is: the future of India won't just be the result of capitalism. It'll emerge as regular dialogs among castes, religions, orthodox rustic forces, communist and socialist powers (which have have overwhelmed Indian intelligentsia for six decades) and global capitalism.

Experience Years of experience: 15. Registered at ProZ.com: Mar 2008.
ProZ.com Certified PRO certificate(s) N/A
Credentials N/A
Memberships N/A
Software Microsoft Excel, Microsoft Word, Powerpoint
Bio
No content specified
Keywords: translation, Hindi to English, English to Hindi, Business, Politics, Contemporary, current affairs, science, nutrition, journalism


Profile last updated
Dec 13, 2008



More translators and interpreters: Hindi to English - English to Hindi   More language pairs



Your current localization setting

English

Select a language

All of ProZ.com
  • All of ProZ.com
  • Term search
  • Jobs
  • Forums
  • Multiple search