Member since May '10

Working languages:
English to Hindi
Hindi to English

Rajul Kumar
A Reliable Vendor

Moradabad, Uttar Pradesh, India
Local time: 05:52 IST (GMT+5.5)

Native in: Hindi Native in Hindi
  • Send message through ProZ.com Google IM
Feedback from
clients and colleagues

on Willingness to Work Again info
14 positive reviews
(1 unidentified)

 Your feedback
What Rajul Kumar is working on
info
May 11, 2020 (posted via ProZ.com):  Coronavirus-induced disease (COVID-19, or COVID) Informed consent to join the WHO Solidarity randomised trial ...more, + 17 other entries »
Total word count: 2470

User message
Best Quality with Competitive Rate
Account type Freelance translator and/or interpreter
Data security Created by Evelio Clavel-Rosales This person has a SecurePRO™ card. View now.
Affiliations
Blue Board affiliation:
Services Translation, Subtitling, Software localization, Website localization, Editing/proofreading, Transcription
Expertise
Specializes in:
Art, Arts & Crafts, PaintingMedical: Health Care
General / Conversation / Greetings / LettersCinema, Film, TV, Drama
Textiles / Clothing / FashionTelecom(munications)
Media / MultimediaAdvertising / Public Relations
Tourism & Travel

Rates
English to Hindi - Rates: 0.03 - 0.04 USD per word / 15 - 20 USD per hour
Hindi to English - Rates: 0.03 - 0.04 USD per word / 15 - 20 USD per hour
Preferred currency USD
Blue Board entries made by this user  18 entries

Payment methods accepted Wire transfer, PayPal | Send a payment via ProZ*Pay
Portfolio Sample translations submitted: 12
English to Hindi: Letter
Detailed field: Advertising / Public Relations
Source text - English
Sub : Israeli’s Hemostat for I.T.B.P.



Respected Sir,



Namaste! Uncontrolled hemorrhage is the leading cause of potentially preventable death in both civilian and military trauma patients. A trauma related death occurs in India every 1.9 minutes and it is estimated that about 1 million people die and about 20 million are hospitalized every year due to injuries.

In a country like India, we absolutely believe that security and tactical services should be able to respond to emergency situations knowing that they have the best chance of surviving. WoundClot could mark the difference between life and death, and that applies to surgical procedures, too. For instance, it normally takes over 30 minutes of manual pressure to plug blood loss following an angioplasty. With our Israeli Technology, however, it can be stopped in just three to five minutes and is easy to remove without causing any rebleeding.

For equipping our forceswith the next generation hemostat WildLion Technologies would like to introduce Woundclot, a cutting-edge hemostat product from Israel.

Please find below a brief on Woundclot. This is the only Class III certified bio absorbable non-compression hemostatic bandage that can STOP severe bleeding- venious and arterial.


Product benefits for improving trauma readiness:

1. Increase multifold capability to stop an injured persons severe bleeding for regular injuries and injuries that could previously not be handled.

2. Increase the capacity of each medic to handle more than one patient at once.


The product has been presented to many stakeholders and medical education departments and has been tried by surgeons with excellent feedback. An Israeli technology has help save millions of lives in India. Your support and guidance can make our forces a more ready force for trauma situations. We would like to get an opportunity to give presentation to your department.


Translation - Hindi
विषय: सड़क सुरक्षा में सुधार लाने के लिए इजरायली हेमोस्टैट


आदरणीय महोदय,


नमस्ते! अनियंत्रित रक्तस्राव (हेमोरेज) सिविलियन और मिलिट्री के आघात (ट्रामा) रोगियों में संभावित रूप से रोके जाने वाली मौत का प्रमुख कारण है। भारत में हर 1.9 मिनट में आघात (ट्रामा) से संबंधित एक मौत होती है और अनुमान लगाया जाता है कि चोटों के कारण, हर साल लगभग 10 लाख लोग मरते हैं और लगभग 2 करोड़ लोग अस्पताल में भर्ती होते हैं।

भारतीय सड़कों पर हर 2 मिनट एक वाहन दुर्घटना और हर 8 मिनट में एक मौत की सूचना दर्ज की जाती है। इसके अलावा सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय की एक रिपोर्ट के अनुसार लगभग 4,64,910 सड़क दुर्घटनाओं में 1,47,913 लोगों की जान गई और 4,70,975 लोग घायल हुए। भारत जैसे देश में, जहां सड़कें खराब हैं, भीड़भाड़ ज्यादा है, और आपातकालीन सेवाएं सुस्त हैं, वुंडक्लॉट जीवन और मृत्यु के बीच अंतर ला सकता है, और यह बात सर्जिकल प्रक्रियाओं पर भी लागू होती है। उदाहरण के लिए, एंजियोप्लास्टी के बाद खून बहने से रोकने के लिए आमतौर पर 30 मिनट के मैन्युअल प्रेशर की जरुरत होती है। हालांकि इज़ारयली तकनीक से इसे केवल तीन से पांच मिनट में रोका जा सकता है और बिना रिब्लीडिंग हुए इसे आसानी से हटाया जा सकता है।

भारत में सड़क सुरक्षा में सुधार लाने के लिए, वाइल्डलॉयन टेक्नोलॉजीज, इज़राइल का अत्याधुनिक हेमोस्टैट उत्पाद, वुंडक्लॉट पेश कर रही है। नीचे वुंडक्लॉट पर संक्षिप्त जानकारी प्रदान की जा रही है । यह एकमात्र श्रेणी III प्रमाणित जैव शोषक गैर-संपीड़न हेमोस्टैटिक बैंडेज है जो गंभीर रक्तस्राव (शिरापरक और धमनी) को रोक सकता है।

मुस्तैदी से ट्रामा में सुधार लाने के लिए उत्पाद के लाभ-
1. एक घायल व्यक्ति के गंभीर रक्तस्राव को रोकने के साथ ही साथ पिछली ऐसी चोटों जिन्हें नियंत्रित नहीं किया जा सका है, के प्रबंधन के लिए इसमें कई गुना क्षमता है।
2. एक बार में एक से अधिक रोगियों को संभालने के लिए डॉक्टर की क्षमता बढ़ाता है।
3. भारतीय सड़कों पर सभी वाहनों के लिए वुंडक्लॉट को अनिवार्य करके लाखों लोगों की जान बचाई जा सकती है।

यह उत्पाद कई हितधारकों एवं चिकित्सा शिक्षा विभागों को प्रस्तुत किया गया है और सर्जनों ने इसे इस्तेमाल कर उत्कृष्ट प्रतिक्रिया प्रदान की हैं। इज़ारयली तकनीक ने भारत में लाखों लोगों के जीवन को बचाने में मदद की है। आपका सहयोग एवं मार्गदर्शन हमारे बलों को ट्रामा जैसी परिस्थितियों से निपटने के लिए और अधिक सक्षम बना सकता है। हम आपके विभाग को प्रेजेंटेशन देने का एक मौका चाहेंगे।
Hindi to English: News
General field: Bus/Financial
Detailed field: Journalism
Source text - Hindi
दिवालिया होने के कगार पर पहुंच चुकी एनबीएफसी दीवान हाउसिंग फाइनेंस कार्पोरेशन (डीएचएफएल) के लिए आरबीआइ ने तीन सदस्यीय सलाहकार बोर्ड का गठन किया है। दो दिन पहले ही इस कंपनी के निदेशक बोर्ड को निरस्त कर दिया गया था। अब आइडीएफसी बैंक के नान एक्जीक्यूटिव चेयरमैन राजीव लाल, आइसीआइसीआइ प्रू लाइफ इंश्योरेंस के एमडी व सीईओ एन एस कनन और एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड ऑफ इंडिया के चीफ एक्जीक्यूटिव एन एस वेंकटेश को मिला कर बनाई गई यह समिति ना सिर्फ कंपनी को दिवालिया प्रक्रिया में ले जाने बल्कि तमाम वैधानिक प्रक्रियाओं को पूरा करने में अहम भूमिका निभाएगी। साथ ही यह समिति आरबीआइ की तरफ से डीएचएफएल में नियुक्त प्रशासक (इंडियन ओवरसीज बैंक के पूर्व प्रबंध निदेशक आर सुब्रमणियाकुमार) को बकाये कर्ज वसूलने से लेकर तमाम दायित्वों के भुगतान को लेकर भी सलाह देगी।
कंपनी पर तकरीबन 84 हजार करोड़ रुपये का बकाया है जिसमें 38 हजार करोड़ रुपये बैंकों का है।उधर, वित्त मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि डीएचएफएल को लेकर आरबीआइ के साथ लगातार संपर्क बना कर रखा गया है। मंत्रालय की तरफ से आरबीआइ को कहा गया है कि पूरे प्रकरण को निर्धारित समय अवधि के भीतर पूरा किया जाना चाहिए। ऐसा नहीं होगा तो यह सरकारी क्षेत्र के कुछ बड़े बैंकों के लिए बड़ा धक्का साबित होगा क्योकि उन्होंने हजारों करोड़ रुपये कंपनी की विभिन्न प्रपत्रों में इन बैंकों ने निवेश किया है और अगर इसकी वसूली का रास्ता नहीं निकलता है तो इनके फंसे कर्जे (एनपीए) में भारी वृद्धि की संभावना है। सबसे ज्यादा पैसा एसबीआइ और बैंक ऑफ बड़ौदा का फंसा है।
आरबीआइ को कहा गया है नए दिवालिया कानून के तहत डीएचएफएल का मामला कम से कम समय में निपटाने की व्यवस्था होनी चाहिए। सनद रहे कि इस हफ्ते के दौरान ही आइबीसी के तहत डीएचएफएल की तरफ से दिवालिया आवेदन दायर किया जाएगा। यह देश का पहला एनबीएफसी होगा जिसे दिवालिया कानून के तहत दिवालिया घोषित किया जाएगा।सरकार व आरबीआइ की तरफ से बेहद सक्रियता दिखाने के बावजूद इस कंपनी में पैसा जमा कराने वाले ग्राहकों की राशि वापस होगी या नहीं इसको लेकर संदेह है।
डीएचएफएल की तरफ से पेश वैधानिक रिपोर्ट के मुताबिक इसकी कुल देनदारियां 83,900 करोड़ रुपये की हैं। इसमें सबसे ज्यादा 37 फीसद डिबेंचर निवेशकों का है। जबकि 31 फीसद सावधि कर्ज है जिसे विभिन्न बैंकों से लिया गया है। जबकि 7 फीसद सावधि जमा स्कीमों के तहत विभिन्न ग्राहकों का है। अब दिवालिया कानून (इंसोल्वेंसी व बैंक्रप्सी कोड -आईबीसी) के मुताबिक दिवालिया होने वाली कंपनी की परिसंपत्तियों पर पहला अधिकार सुरक्षित लेनदारों और कर्मचारियों का होता है। सावधि जमा में पैसा लगाने वाले ग्राहकों को अनसिक्यूर्ड लेनदारों की श्रेणी में रखा जाता है। इन्हें सिक्यूएर्ड (सुरक्षित) ग्राहकों को भुगतान के बाद भुगतान होगा। अब देखना होगा कि कंपनी की संपत्तियों की बिक्री से इन सभी के लिए राशि निकल पाती है या नहीं।
Translation - English
For NBFC Dewan Housing Finance Corporation (DHFL), which is on the verge of bankruptcy, RBI has constituted a three-member advisory board. Two days ago, the board of directors of this company was called in. The new committee, which have non-executive chairman of IDFC Bank; Rajiv Lal, MD and CEO of ICICI Pru-life Insurance: NS Kanan, and the chief executive of the Association of Mutual Funds of India: NS Venketesh will not only take the company into the bankruptcy process, but also play an important role in carrying out all the statutory processes. Besides it, this committee will also advise to R Subramania Kumar (Former Managing Director of Indian Overseas Bank), administrator in DHFL appointed by RBI regarding debt recovery to repayment of various obligations.
The company owes about 84 thousand crore rupees, of which 38 thousand crore rupees belong to banks. On the other hand, sources of the Finance Ministry have told that continued contact with the RBI has been maintained regarding DHFL. The Ministry has instructed to the RBI to complete the entire case within the stipulated time period. If this not happens, then it will give a big shock to some of big public sector banks because they have invested thousands of crores of rupees in various Forms of the Company and if the way of recovery is not found, then there is a great possibility of a huge increase in their trapped debt (NPA). SBI and Bank of Baroda have to recover their huge amount from this company.
It is instructed to the RBI to arrange a mechanism under the new insolvency law to settle the DHFL’s case in the shortest possible time. Remember that insolvency application will be filed by DHFL under IBC during this week only. This is the first NBFC of the country which will be declared insolvent under the Insolvency Act. Despite the great activism shown by the Government and RBI, it is still a doubt whether the amount of the customers who had deposited their money in this company will be refunded or not.
According to the legal report submitted by DHFL, its total liabilities are Rs 83,900 crore. Out of which the highest amount belongs to Debenture Investors which is 37 percent. While 31 percent is a term loan which has been taken from various banks. Whereas 7 percent belongs to different customers under fixed deposit schemes. Now, according to the Insolvency Act (Insolvency and Bankruptcy Code -IBC), safe creditors and employees have the first right over the assets of the insolvent company. Customers who invest their amount in fixed deposit are classified as unsecured creditors. They will be paid only after the payment of the secured (safe) customers. Now, we have to see whether the amount can be arranged for all of them from the sale of assets of the company.
English to Hindi: Press Release
General field: Other
Detailed field: Journalism
Source text - English
Career Decision should be based on future potential & current skills, say experts!!


There used to be a time when there were very few career options to choose from, and consequently school children would invariably postpone their career decision till Class 10th. In fact students used to decide on their career choice just before deciding on their subjects for Class XI, after looking at their Class 10th board exam marks.

Now, cut to 2019, children these days have plethora of career options to choose from, some careers which were completely unheard even few years back, each with promising career prospects. But the challenges before the students are of different nature. The most common of them all is “Confusion”. Confusion related to “which career option is going to suit me? Or “which career option will enable me to earn big bucks with less effort?”
Parents face a different challenge and that is “when is the right time to select a career?” coupled with the daunting task of selecting one. Several career centric sessions conducted either in school or outside adds more to the confusion. At the end of it all valuable time is lost which otherwise could have been efficiently utilized.
Experts at FIITJEE, India’s leading coaching and Test Preparation Company are of the opinion that career decisions should be based on one’s future potential vis-a-vis current skills along with one’s love for a subject or their inherent interest in a subject and its associated field.

Mr. Partha Halder, Centre Head of FIITJEE Punjabi Bagh Centre said, “a student should first begin with a self assessment to discover their hidden talent and capability. Subsequently they should expose themselves to various competitive exams from Class 7 onwards. These exams are common till class 10th, hence children are assessed on all subjects and not just on few subjects. Based on a child’s performance, their interest and capability, parents can arrive at a decision or at least narrow down upon few target career options.”

“To help the children and their parents, FIITJEE is conducting a national level assessment to enable students of Class 5th to Class 10th to assess their competency. It is called FTRE (FIITJEE Talent Reward Exam), which along with assessment, will give out detailed performance report card, All India ranking, rank potential index (predictive rank) for various competitive exams and it will also reward talented students with scholarships and other benefits” said Mr. Halder.

Scheduled to be held on 29th December, 2019 across 100+ cities in India, around 2 Lakhs students are expected to appear in it. The last date to register for FTRE is 22nd December 2019, for more information visit : www.fiitjee-ftre.com

“FIITJEE Talent Reward Exam is a mechanism by which students can learn about their shortcomings. It has been designed with the intention to help students understand and gainfully use their full potential and fulfil their career aspiration,” said Mr. Partha Halder.

Translation - Hindi
कैरियर का फैसला भविष्य की संभावना और वर्तमान कौशल के आधार पर - विशेषज्ञ

एक समय था जब चुनने के लिए बहुत थोड़े कैरियर विकल्प हुआ करते थे, और इसलिये स्कूल जाने वाले स्टूडेंट्स अपने कैरियर निर्णय (क्या बनना है) को क्लास 10 तक टाल दिया करते थे। वास्तव में स्टूडेंट्स अपने क्लास 10 की बोर्ड परीक्षाओं के परिणाम के बाद क्लास 11 के विषयों को चुनने से पहले ही अपने कैरियर पर फैसला लिया करते थे।
अब इस दौर (2019) में कैरियर चुनने के लिए एक से बढ़कर एक विकल्प मौजूद हैं, और कुछेक तो ऐसे कैरियर हैं जिनके बारे में कुछ वर्ष पहले सुना भी नहीं जाता था और आज वो एक आशाजनक कैरियर संभावनाएं बन गये हैं। लेकिन चुनौती है, तो बस स्टूडेंट्स के विभिन्न स्वभाव की। जिसमें सबसे आम है उनका ‘‘ कन्फ्यूज (भ्रम)’’ में रहना। एक सबसे बड़ा कन्फ्यूजन तो उनमें यही रहता है कि ‘‘कौन सा कैरियर मेरे लिए उपयुक्त होगा? या फिर कौन सा कैरियर विकल्प मुझे थोड़ा सा प्रयास करने पर ही ज्यादा कमाई करा सकता है?’’
पेरेंट्स भी विभिन्न प्रकार की चुनौतियों का सामना करते हैं कि ‘‘ कैरियर चुनने का सही समय क्या है?’’ निस्संदेह यह एक कठिन काम है। स्कूल या फिर बाहर किसी संस्थान द्वारा आयोजित किये जाने वाले कई कैरियर केंद्रित सत्र और भी ज्यादा कंफ्यूजन पैदा कर देते हैं। और अंत में मूल्यवान समय निकल जाता है जिसे कुशलतापूर्वक इस्तेमाल किया जा सकता था।
फिटजी, भारत की सबसे अग्रणी कोचिंग और टेस्ट प्रिप्रेशन कम्पनी, के विशेषज्ञों की राय है कि कैरियर फैसला स्टूडेंट की भविष्य की संभावना, उसका वर्तमान कौशल और साथ ही साथ किसी विषय के प्रति स्टूडेंट का लगाव या किसी विषय और इससे सम्बन्धित क्षेत्र में उसकी अंतर्निहित रूचि पर निर्भर करता है।
फिटजी पंजाबी बाग सेंटर के सेंटर हैड, श्री पार्था हल्दर कहते हैं, ‘‘सबसे पहले तो किसी स्टूडेंट को अपनी छिपी प्रतिभा और क्षमता को पहचानने के लिए आपन स्वआंकलन करना चाहिए। उसके बाद क्लास 7 से लेकर आगे तक विभिन्न प्रतिस्पर्धी परीक्षाओं में बैठना चाहिए। ये परीक्षाएं कक्षा 10 तक आम होती हैं, इस प्रकार बच्चों का सभी विषयों पर आंकलन किया जाता है न कि कुछ विषयों पर ही। बच्चे की परफोरमेंस, अभिरूचि और क्षमता के आधार पर, पेरेंट्स फैसला कर सकते हैं या कम से कम कुछ लक्षित कैरियर विकल्पों को चिन्हित कर सकते हैं।’’
श्री हल्दर ने आगे बताया, ‘‘बच्चों और उनके परेंटे्स को मदद देने के लिए, एफआईआईटीजेईई एक राष्ट्रीय स्तर आंकलन आयोजित कर रही। यह आंकलन क्लास 5 से क्लास 10 तक के स्टूडेंट्स को अपनी क्षमता का आंकलन करने में समर्थ बनाता है। यह एफटीआरई (फिटजी टेलेंट रिवार्ड एक्जाम) कहलाता है, जोकि आंकलन के साथ ही साथ विभिन्न प्रतिस्पर्धी परीक्षाओं के लिए विस्तृत परफोरमेंस रिपोर्ट कार्ड, आॅल इण्डिया रैंकिंग, रैंक संभावित सूचकांक (संभावित रैंक) भी देगा और इसी के साथ प्रतिभाशाली स्टूडेंट्स को स्काॅलरशिप तथा अन्य लाभ भी प्रदान करेगा।’’
29 दिसम्बर, 2019 को भारत के 100 से अधिक शहरों में आयोजित होने वाली इस परीक्षा में करीबन 2 लाख स्टूडेंटस के बैठने की उम्मीद की जा रही है। एफटीआर के लिए पंजीकरण करने की अंतिम तिथि 22 दिसम्बर 2019 है। अधिक जानकारी के लिए रू ूूूण्पिपजरमम.जितमण्बवउ पर विजिट करें।
श्री हल्दर ने कहा, ‘‘फिटजी टेलेंट रिवार्ड एक्जाम एक ऐसा तंत्र है जिसके द्वारा स्टूडेंट्स अपनी कमियों के बारे में जान सकते हैं। इसे छात्रों को अपनी पूर्ण क्षमता को समझने और इस्तेमाल करने तथा अपने कैरियर आकांक्षा को पूरा करने के इरादे से तैयार किया गया है।’’
English to Hindi: IT/Banking
General field: Tech/Engineering
Detailed field: Finance (general)
Source text - English
Registration
Menu
Please wait....
Register
Please Register now!
Looks like you have not registered for Internet Banking
Service not available at present. Please try later.
Something went wrong. Please try after sometime!
. Kindly visit your branch
Welcome to Canara Bank
Start Date and End Date cannot be empty.
Start Date cannot be greater than End Date
Translation - Hindi
पंजीकरण
मेन्यू
कृपया प्रतीक्षा करें....
पंजीकरण करें
अब पंजीकरण करें!
ऐसा लगता है कि आपने इंटरनेट बैंकिंग के लिए पंजीकरण नहीं कराया है
वर्तमान में सेवा उपलब्ध नहीं है। बाद में प्रयास करें।
कुछ गलत हो गया। कृपया कुछ देर बाद प्रयास करें!
कृपया अपनी शाखा पर जाएँ
केनरा बैंक में आपका स्वागत है
प्रारंभ तिथि और समाप्ति तिथि रिक्त नहीं हो सकती।
प्रारंभ तिथि समाप्ति तिथि से अधिक नहीं हो सकती
English to Hindi: Advertisement AIR ASIA
General field: Marketing
Detailed field: Advertising / Public Relations
Source text - English
Terms&Conditions
Ancillary Promo : SEAT Campaign 2-8 December 2019
Pre-Book Pick-A-Seat Now.. Get EXTRA FREE 200 Big Points.
Pay with big point on your next trip
Travel Period 2 -8 December 2062
*Terms & Conditions applied FD flights only
This campaign is organised by Thai AirAsia and is open to all valid BIG Members.
Participants who book AirAsia flights with Seat starting from 12:01 am on 2 December 2019 till 11:59 pm on 8 December 2019 (“Campaign Period”) are entitled to earn 200 bonus BIG Points/sector.
Travel period for the AirAsia flight tickets booked is from XX XXX 2019 till XX XXX 2019.
This applies to all routes for FD flights only.
BIG member ID must be entered upon booking.
Bonus 200 BIG Points will be credited to eligible member's account within 4 weeks after the campaign end date. The regular points as per the BIG Points issuance structure will be credited to member's BIG account within 5 days after the AirAsia flight departure date. For avoidance of doubt, AirAsia flight bookings made on behalf of others will not entitle the Participants to earn any BIG Points under this Campaign.
Retro claim of bonus BIG Points is not applicable.
This campaign is applicable for Seat booking via inpath and manage my booking made via www.airasia.com and AirAsia mobile application. (excluding Premium Flex & Government Bundle)
If you are not an AirAsia BIG Member yet, do sign up at https://member.airasia.com/register.aspx
Bonus BIG Points are limited to 10,000 seats only. First comes first serves based on transaction date and time.
BIG Members and BIG Points are governed by BIG Membership Terms and Conditions. The English version of this Terms and Conditions shall prevail over any translated versions of the Terms and Conditions.
Translation - Hindi
नियम एवं शर्तें
एंसीलरी प्रोमो: सीट अभियान 2-8 दिसंबर 2019
अपनी सीट प्री-बुक करें और अतिरिक्त 200 BIG पॉइंट्स मुफ्त पाएं ...
अपनी अगली यात्रा पर इन BIG पॉइंट्स से भुगतान करें
यात्रा अवधि 2 -8 दिसंबर 2062
*नियम व शर्तें केवल FD उड़ानों पर लागू
यह अभियान थाई एयर एशिया द्वारा आयोजित किया गया है और सभी वैध बीआईजी (BIG) सदस्यों के लिए खुला है।
2 दिसंबर 2019 को दोपहर 12:01 से शुरू होकर 8 दिसंबर 2019 ("अभियान अवधि") सुबह 11:00 बजे तक एयरएशिया की उड़ानें सीट बुक करने वाले प्रतिभागी बोनस के रूप में 200 BIG पॉइंट्स/ क्षेत्र अर्जित करने के हकदार हैं।
एयरएशिया फ्लाइट की बुक की गई टिकट के लिए यात्रा की अवधि XX XXX 2019 से XX XXX 2019 तक है।
यह केवल FD उड़ानों के लिए सभी मार्गों पर लागू है।
बुकिंग के समय BIG सदस्य आईडी दर्ज करनी होगी।
अभियान समाप्ति तिथि के बाद 4 सप्ताह के भीतर बोनस 200 BIG पॉइंट्स पात्र सदस्य के खाते में जमा कर दिए जाएंगे। BIG पॉइंट्स जारी करने की संरचना के अनुसार, एयरएशिया उड़ान प्रस्थान तिथि के बाद 5 दिनों के भीतर नियमित पॉइंट्स सदस्य के BIG खाते में जमा किए जाएंगे। संदेह से बचने के लिए, दूसरों की ओर से की गई एयरएशिया फ्लाइट बुकिंग इस अभियान के तहत प्रतिभागियों को किसी भी BIG पॉइंट्स अर्जित करने का अधिकार नहीं देगी।
बोनस BIG पॉइंट्स का रेट्रो क्लेम (पूर्वव्यापी दावा) लागू नहीं है।
यह अभियान इनपथ के माध्यम से सीट बुकिंग के लिए लागू है और www.airasia.com और एयरएशिया मोबाइल एप्लिकेशन के माध्यम से की गई माय बुकिंग का प्रबंधन करता है। (प्रीमियम फ्लेक्स और सरकारी बंडल को छोड़कर)
यदि आप अभी तक एयरएशिया के BIG सदस्य नहीं हैं, तो https://member.airasia.com/register.aspx पर जरूर साइन अप करें
बोनस BIG पॉइंट्स केवल 10,000 सीटों तक सीमित हैं। लेन-देन की दिनांक और समय के आधार पर पहले आएं, पहले पाएं।
BIG सदस्य और BIG पॉइंट्स BIG सदस्यता नियम और शर्तों द्वारा शासित हैं। इस नियम और शर्तों का अंग्रेजी संस्करण नियमों और शर्तों के किसी भी अनुवादित संस्करण पर प्रभावी होगा।
English to Hindi: SUBTITLING
General field: Marketing
Detailed field: Media / Multimedia
Source text - English
00:07
We are DLL.
00:09

00:09
Today we are an award-winning business
00:11

00:11
that delivers financial solutions
to our customers around the world.
00:15

00:15
We are proud of the strong foundation
we have built
00:18

00:18
and the value it delivers to our customers.
00:21

00:21
Additionally, our connection with Rabobank
is a key enabler to our ambitions.
00:27

00:27
The solutions we provide our partners
00:29

00:29
truly make a difference
in the lives of the end users
00:33

00:33
the businesses they operate
and the communities they serve.
00:37

00:37
DLL has a rich history of delivering both
economic and social value
00:42

00:42
across all of our industry verticals.
00:45

00:45
Our intention is to work closely
with our customers
00:49

00:49
to find solutions that support them, as
they join us on this important journey.
00:55

00:55
So how do we do that?
00:56

00:57
The answer can be found
in our mission statement
01:00

01:00
Partnering for a better world.
Translation - Hindi
00:07
हम DLL हैं
00:09

00:09
आज हमारा एक पुरस्कार विजेता व्यवसाय है
00:11

00:11
जो दुनिया भर में अपने ग्राहकों
को वित्तीय समाधान प्रदान करता है।
00:15

00:15
हमें अपनी बनाई मजबूत नींब पर और
जो मूल्य यह
00:18

00:18
अपने ग्राहकों को प्रदान करती है, पर गर्व है।
00:21

00:21
इसके अतिरिक्त, Rabo बैंक के साथ हमारा संबंध
हमारी महत्वाकांक्षाओं के लिए एक महत्वपूर्ण बात है।
00:27

00:27
हम अपने भागीदारों को जो समाधान प्रदान
00:29

00:29
करते हैं, वे वास्तव में अंतिम
उपयोगकर्ताओं के जीवन में एक अंतर लाते हैं
00:33

00:33
वे जो व्यवसाय संचालित करते हैं
और जिन समुदायों को वे सेवा देते हैं।
00:37

00:37
DLL का हमारे उद्योग के सभी क्षेत्रों में
आर्थिक और सामाजिक मूल्य प्रदान
00:42

00:42
करने का एक समृद्ध इतिहास है।
00:45

00:45
हमारा उद्देश्य अपने ग्राहकों के साथ मिलकर
ऐसे समाधान ढूंढ़ना है,
00:49

00:49
जो उनको सहयोग दे, क्योंकि इस
महत्वपूर्ण यात्रा के लिए वे हमसे जुड़ते हैं।
00:55

00:55
तो हम इसे कैसे करते हैं?
00:56

00:57
इसका जवाब हमारे मिशन स्टेटमेंट
में मिल सकता है
01:00

01:00
एक बेहतर दुनिया के लिए साझेदारी।
English to Hindi: Product Brochure
General field: Marketing
Detailed field: Advertising / Public Relations
Source text - English
Charcol Mask
VAAH CHARCOAL MASK exfoliates the dirt out of your pores, grim dead skin cells, absorb oil, removed blackheads and whiteheads.
Benefit if Charcol Mask
- Treats oily skin and treat acne
- Reduces pore size
- Makes skin tighter and firmer
- Prevents premature aging
- Clear skin blemishes
- Provides flawless skin
- Treat Psoriasis and deep clean your skin
- Soothe and heal bites, cuts and skin irritation
- Suits every skin type
Translation - Hindi
चारकोल मास्क
चारकोल मास्क आपकी त्वचा के छिद्रों (रोमों) से डर्ट को बाहर निकाल देता है, जमे हुए मेल को दूर करता है, डेड हो गईं स्किन कोशिकाओं को पुनःजीवन प्रदान करता है, आॅयल को सोख लेता है तथा कील-मुहासों को भी दूर कर देता है।
चारकोल मास्क के फायदे
ऽ आॅयली स्किन तथा मुहासों से मुक्ति दिलाता है
ऽ रोमछिद्रों के आकार को कम करता है
ऽ आपकी त्वचा में कसाव लाता है
ऽ त्वचा के दाग-धब्बों को साफ करता है।
ऽ इसके निरंतर इस्तेमाल से आपकी त्वचा दमक जाती है।
ऽ त्वचा के कटने, छिलने में भी आराम पहुंचाता है और त्वचा की जलन को दूर करता है।
ऽ हर प्रकार की त्वचा के लिए उपयुक्त
English to Hindi: Translation of Health Related Article
General field: Art/Literary
Detailed field: Journalism
Source text - English
Stress in winters
Seasonal affective disorder

Winter can be a trying and irritating time of the year bringing out a different entity in you. When you are feeling low or depressed in a seasonal pattern, usually during winter it is described as Seasonal Affective Disorder. The sequence of shortened sunlight and drops in temperature drives your spirit low making you anxious. Sunlight is believed to aid a major role in controlling you seasonal depression due to decreasing the production of serotonin and melatonin in your body. Daylight lets your body know when you should be awake and asleep. So, more sunshine makes you vigilant and less sunlight makes you sloppy.
The true and exact causes of seasonal affective disorder are still unknown. Most explanation usually link the disorder to the reduction of daylight hours in winter. The shorter days and reduced exposure to sunlight that occurs in winter are thought to affect the body by disrupting:

Melatonin- Our brain produces the hormone melatonin to help you sleep when its dark and then sunlight during the day reverses the by reducing melatonin production so you feel awake and alert. During the short days and long nights of winter, our body may produce too much melatonin, leaving us feeling dozy and inattentive.

Serotonin- The faded sunlight of winter can take down your body’s production of serotonin, a neurotransmitter that assists to regularize our mood. A shortage of Serotonin may trigger depression and unfavorable to your sleep, appetite, memory, and sexual desires.

Circadian rhythms- Every human body has an internal clock which helps us sleep and eat but as season change our system responds. The longer nights and shorter days of winter can disrupt your internal clock—leaving you feeling lethargic, confused, and sleepy headed at awkward times.



In order to get over winter blues people tend to turn towards their comfort foods as they have a lack of interest in their usual hobbies and furthermore have little energy to exercise during winter. Giving in to these unhealthy habits can harshly affect your health and cause extra stress. Below mentioned are the real activities you should try and indulge yourself in.

 Healthy meals: During winter blues, one craves for food rich in fat, carbohydrates and sugar which results in tiredness and mood swings in the longer run. Instead one should opt for plant proteins like vegetables, nuts and beans, fruits and wholegrains which will provide them vitamins, minerals and protein to restore energy levels. Plant protein will also help in maintain a healthy weigh and lowers cancer risk.

 Indulge in regular exercise: To stay active and stress free first thing on everyone’s mind in winters should be Exercise. One should not feel lazy or snuggle in bed the whole day. Exercise will help in strengthening the immune system and helps in maintaining healthy weight It also reduce the risk for colon, breast ad endometrial cancers. One should do regular moderate physical exercise for at two and a half hours or vigorous physical exercise for about an hour and 15 minutes.

 Soak your body in sun: Sun therapy is best in winters. Winters are usually dark with lesser sunlight making everyone hibernate in their warm blankets. But we should make sure to go out when the sun is shining. While going out don’t forget to apply sunscreen.

 Be a part of social gatherings: Get surrounded by people, friends or family as they can help to boost your mood and motivates you to do things you enjoy. Make movie or coffee plans with your friends or co-workers to lighten your mood. While meeting your friends, laugh more, worry less and gain positive attitude. You might benefit the other person as well.

 Proper sleep: One should at least sleep for 7 to8 hours each night to feel refreshed and energized the other day. Getting too much or too less sleep will result in mood swings, memory issues and focus related problems.

 Exercise/ relaxation techniques: Don’t over think or take stress. These two are the biggest enemies in winters. It can damage your self confidence. If these issues are carried over in spring or summers, talk to a medical practitioner for effective therapies and medications. Relaxation technique is one everyone should follow. It includes guided imagery, progressive muscle relaxation, massage or self hypnosis.


In respect of all your endeavour, sometimes you may experience stress signals in combination with unhappiness, depression, distemper, poor concentration, impotence, sleep or appetite disturbance.if the signs last for two weeks or longer, talk to your doctor or mental health counselor at the earliest .

Connect with people who are important to you. The increased cloud cover and low light exposure can be stressful for people. The winter blues can make you feel unmotivated and make even the simplest tasks feel challenging. One should take out time for self care and gain perspective. Setting realistic goals and expectations can help you manage stress.
Translation - Hindi
सर्दियों के मौसम में तनाव
मौसमी विकार
वैसे तो हर बदलता मौसम मनुष्य के लिए कुछ परेशानियां लेकर आता है। लेकिन सर्दियों का मौसम कुछ ज्यादा ही परेशानी देने वाला होता है। जब चारों ओर घना कोहरा छाया हो और धूप का दूर तक नामों निशान न हो, तो ऐसा दिन उबाने वाला होता है। मन उदास होने लगता है और अवसाद हावी हो जाता है। इस स्थिति को मौसमी विकार के रूप में जाना जाता है। धूप न निकलने और तापमान में तेजी से गिरावट आने से दिल घबरा जाता है, बेचैनी बढ़ जाती है। विज्ञान की भाषा में यह सब शरीर में सेरोटोनिन तथा मोलाटोनिन जैसे द्रवों के निर्माण की वजह से होता है, जिसका सीधा सम्बन्ध कम धूप निकलने से होता है। दिन का प्रकाश आपके शरीर को संकेत देता है कि कब जागना है और कब सोना है। तो कह सकते हैं कि खिली धूप आपको सतर्क बनाती है और कम धूप आपको सुस्त कर देती है।
हालांकि, मौसमी विकार के वास्तविक एवं ठोस कारण अभी भी ज्ञात हैं। अधिकांश विवरण सामांयतौर पर विकार को सर्दियों के दौरान, दिन की रोशनी में आई कमी से जोड़ते हैं। सर्दियों में दिनों का छोटा होना और धूप का कम निकलना निम्नलिखित कारणों से शरीर को प्रभावित करने का कारण माना जाता है:-
मेलाटोनिन- सोने में मदद करने के लिए हमारा मस्तिष्क रात में मेलाटोनिन हार्मोन का उत्पादन करता है और जब दिन में रोशनी होती है, तो मेलाटोनिन उत्पादन कम हो जाता है और हम जागे रहते हैं और सतर्कता महसूस करते हैं। सर्दियों में दिन छोटे और रातें लंबी होने की वजह से हमारा शरीर बहुत अधिक मेलाटोनिन का उत्पादन कर सकता है, जिससे हमें निद्रावस्था और असावधानी महसूस होती है।
सेरोटोनिन- सर्दियों की अशक्त धूप आपके शरीर के सेरोटोनिन के उत्पादन करने की क्षमता को कम कर सकती है। सेरोटोनिन एक न्यूरोट्रांसमीटर होता है, जो हमारे मूड को नियमित करने में मदद करता है। सेरोटोनिन की कमी से आपको अवसाद हो सकता है और साथ ही आपकी नींद, भूख, स्मृति और यौन इच्छाओं पर प्रतिकूल असर पड़ सकता है।
सर्कैडियन रिदम - प्रत्येक मानव शरीर में एक आंतरिक घड़ी होती है जो हमें सोने और खाने में मदद करती है लेकिन जैसे ही मौसम बदलता है हमारी प्रणाली प्रतिक्रिया करती है। सर्दियों की लंबी रातें और छोटे दिन आपकी आंतरिक घड़ी को बाधित कर सकते हैं - जिससे आप सुस्त महसूस कर सकते हैं, भ्रमित हो सकते हैं, और आपको दिन के दौरान नींद लेने की इच्छा महसूस हो सकती है।
सर्दियों के मौसम के दौरान लोग अलसाये रहते हंै और अपने हेल्दी फूड (स्वास्थ्यकर खाद्य पदार्थों) को छोड़कर कम्फर्टेबल फूड (अस्वास्थ्यकर खाद्य-पदार्थों) पर जोर देते हैं। इन दिनों में लोगों को अपने दैनिक तौर पर की जाने वाली आदतों में अभिरूचि कम हो जाती है और उनमें व्यायाम करने, सैर पर जाने जैसी नियमित दिनचर्या का पालन करने की भी ऊर्जा नहीं रह जाती है। ये अस्वस्थ्यकर आदतें निश्चय ही हमारे शरीर पर प्रभाव डालती हैं और एक अतिरिक्त तनाव (स्टेªस) पैदा करती हैं। नीचे कुछ गतिविधियां दी जा रही हैं जिन्हें आपको जरूर आजमाना चाहिए।
ऽ हेल्दी फूड (स्वास्थ्यकर भोजन): सर्दियों के दौरान, हमें ऐसे खाद्य पदार्थों को खाने की लालसा उत्पन्न होती है, जिनमें वसा, कार्बोहाइड्रेट और शर्करा प्रचुर मात्रा में होती है। ऐसे खाद्य पदार्थों का नियमितरूप से सेवन करने से हमें थकान रहने लगती है और हमारा मूड (मिजाज) भी खराब रहने लगता है। हम चिड़चिड़ा महसूस करने लगते हैं। इसलिये हमें ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करने से बचना चाहिए और इनकी जगह पत्तेदार हरी सब्जियां, मूंगफली, फलियां, फल और साबुत अनाज का उपयोग करना चाहिए जिनमें हमारे ऊर्जा स्तर बनाए रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन, विटामिन, और मिनरल होता है। पौधे से प्राप्त होने वाला प्रोटीन हमारे वजन को संतुलित कर हमें स्वास्थ्य बनाता है। इसके सेवन से कैंसर का खतरा भी कम हो जाता है।
ऽ जमकर व्यायाम (एक्सरसाइज) करें - सर्दियों के मौसम में चुस्त-दुरस्त (एक्टिव) व तनाव (स्ट्रेस) मुक्त रहने के लिए हमें खूब व्यायाम करना चाहिए। कोशिश की जानी चाहिए कि सर्दी के मौसम में भी पसीना शरीर से निकल जाए। इससे शरीर के विषैले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं। हमें बिल्कुल भी आलस नहीं करना चाहिए और न ही पूरे दिन बिस्तर में पड़े हुए झपकी लेनी चाहिए। व्यायाम करने से हमारी रोग प्रतिरक्षा प्रणाली (इम्युन सिस्टम) मजबूत होती है और शरीर को हेल्दी वेट (स्वस्थ्यकर वजन) को बनाए रखने में मदद मिलती है। व्यायाम करने के अन्य कई लाभ हैं जैसे ये कोलन, ब्रेस्ट और एंडोमेट्रियल कैंसर जैसे गंभीर रोगों से हमें बचाता है। हमें प्रतिदिन दो-ढाई घण्टे हल्के शारीरिक व्यायाम करने चाहिए या फिर घण्टा - सवा घण्टा तेज व्यायाम करने चाहिए।
ऽ खूब धूप लें: सर्दियों में धूप लेना (सन थेरेपी) किसी चिकित्सा से कम नहीं होती है। अक्सर सर्दियों में हमारे शरीर को पर्याप्त धूप नहीं मिल पाती है। हम अपने कम्बलों में रहकर ही अपना दिन बिताते हैं। लेकिन जब धूप निकलें, तो हमें कुछ देर धूप में जरूर बैठना चाहिए। हां जब आप धूप में बैठें या घर से बाहर निकलें, तो सनस्क्रीन एप्लाई करना न भूलें।
ऽ सामाजिक मेलजोल बढ़ाएं: हमें हमेशा लोगों से घिरे रहना चाहिए फिर चाहें ये आपके दोस्त हों या परिवारजन क्योंकि इन लोगों के बीच रहकर आपका मिज़ाज ठीक रहता है और ये लोग आपको जिंदगी को अच्छे ढंग से जीने के लिए प्रेरित भी करते हैं। अपने मिज़ाज को अच्छा रखने के लिए आप अपने दोस्तों एवं सह-कर्मियों के साथ मूवी देखने या काॅफी पीने जानें की योजना भी बना सकते हैं। जब आप अपने दोस्तों के बीच हों, तो ज्यादा से ज्यादा हंसे, चिंता कम करें, और सकारात्मक रूख बनाए रखें। इससे न केवल आपको फायदा होगा बल्कि दूसरों को भी होगा।
ऽ पर्याप्त नींद लें: हर रात हमें कम से कम 7-8 घण्टे की नींद जरूर लेनी चाहिए। ऐसा करने से जब हम सोकर उठते हैं, तो खुद को तरोताजा महसूस करते हैं और पूरे दिन शरीर में ऊर्जा बनी रहती है। जबकि बहुत ज्यादा या कम सोने से आपका मिज़ाज बिगड़ सकता है, आपकी याददाश्त पर असर पड़ सकता है और साथ ही किसी काम को एकाग्र होकर न कर पाने की शिकायत पैदा हो सकती है।
ऽ व्यायाम/विश्रान्ति (रिलेक्स) तकनीक: ज्यादा सोचने या अवसाद (स्टेªस) से ग्रस्त होने की आदत न पालें। सर्दियों के मौसम में ये दोनों विकार आपके सबसे बड़े दुश्मन होते हैं। ये आपके आत्म-विश्वास में कमी ला सकते हैं। यदि आप वसंत या ग्रीष्म ऋतु में भी इन दोनों समस्याओं का अनुभव करते हैं, तो अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर लें, वह आपको कुछ थेरेपी एवं दवाएं सुझायेगा। विश्रान्ति (रिलेक्स) तकनीक को तो सभी लोगों को उपयोग में लाना चाहिए। इसमें निर्देशित कल्पना, मांसपेशी को रिलेक्स देना, मालिश (मसाज) या आत्म सम्मोहन जैसी गतिविधियां शामिल हैं।
अपने सर्वश्रेष्ठ प्रयासों के बावजूद, हमें कभी न कभी तनाव, रोष, अवसाद, बेचैनी, एकाग्रता में कमी, शक्तिहीनता (नपुंसत्व), अनिद्रा या भूख न लगना से संकेतों का अनुभव होता है। यदि ये लक्षण दो हफ्तों या इससे अधिक समय तक बने रहते हैं, तो आपको तुरंत अपने चिकित्सक या मानसिक परामर्शदाता से सम्पर्क करना चाहिए।

हमेशा ऐसे लोगों से जुड़े रहें जो आपके जीवन में महत्व रखते हैं। अकेलापन आपके जीवन को तनावग्रस्त बना सकता है। सर्दियों का मौसम आपको हतोत्साहित कर सकता है या साधारण सा काम करने में भी आपको चुनौती महसूस हो सकती है।
हमें अपनी देखभाल के लिए समय जरूर निकालना चाहिए ताकि ज्यादा से ज्यादा लाभ प्राप्त हो। वास्तविक लक्ष्यों एवं आकांक्षाओं को निर्धारित कर आपको अपने तनाव को प्रबंधित करने में बड़ी मदद मिलेगी।
English to Hindi: Recruitment Advertisement
General field: Marketing
Detailed field: Advertising / Public Relations
Source text - English
Recruitments undertaken by RRBs
1. Assistant Loco Pilots (ALPs) & Technician Grade-III: Candidates having minimum qualification of ITI are eligible for these categories in the Level-2 Pay Scale. The candidates have to qualify in Computer Based Test (CBT). In addition ALPs undergo Computer Based Aptitude Test.
2. Junior Engineer, Depot Material Superintendent and Chemical & Metallurgical Assistant: Candidates having minimum qualification of Diploma in Engineering are eligible for these categories in Level-6 Pay Scale. The candidates have to qualify the Computer Based Test(CBT).
3. Senior Section Engineer & Chief Depot Material Superintendent, Chemical & Metallurgical Superintendent: Candidates having minimum qualification of Degree in Engineering are eligible for these categories in Level-7 Pay Scale. The candidates have to qualify the Computer Based Test(CBT).
4. Ministerial & Isolated Categories (Stenographers, Translators, Teachers, Catering, Law Assistant, Scientific Supervisors, Librarian, Photographer, Publicity Inspector, etc): Candidates are required to possess the requisite qualification as prescribed in the Centralised Employment Notification (CEN) for these categories. The candidates have to qualify the Computer Based Test (CBT). Stenography Test/Typing Skill Test/Translation Test wherever required will also be conducted on Computer.
5. Para-Medical Categories (like Staff Nurse, Pharmacist, medical Technicians, Lab Attendants, Physiotherapist, Optometrist, Dietician, etc.): Candidates are required to possess the requisite qualification as prescribed in the Centralised Employment Notification (CEN) for these categories. The candidates have to qualify the Computer Based Test(CBT).
6. NTPC (Under Graduate) Categories (like Junior Clerk cum Typist, Accounts Clerk cum Typist, Commercial Clerk, Trains Clerk, Ticket Examiner): Candidates having minimum qualification of 12(10+2) are eligible for these categories in Level-2 Pay Scale except Commercial clerk where pay scale is Level-3. The candidates have to qualify the Computer Based Test(CBT). Candidates opting for Junior Clerk cum Typist and Accounts Clerk cum Typist will also undergo the Computer Based Typing skill Test.
Translation - Hindi
आरआरबी द्वारा नियुक्तियां
1. सहायक लोको पायलट (एएलपी) और तकनीशियन ग्रेड- III: आईटीआई की न्यूनतम योग्यता रखने वाले उम्मीदवार स्तर -2 वेतनमान में इन श्रेणियों के लिए पात्र हैं। उम्मीदवारों को कंप्यूटर आधारित टेस्ट (सीबीटी) में अर्हता प्राप्त करनी होती है।
2. जूनियर इंजीनियर, डिपो सामग्री अधीक्षक और रासायनिक और धातु सहायक: इंजीनियरिंग में डिप्लोमा की न्यूनतम योग्यता रखने वाले उम्मीदवार स्तर -6 वेतनमान में इन श्रेणियों के लिए पात्र हैं। उम्मीदवारों को कंप्यूटर आधारित टेस्ट (सीबीटी) में अर्हता प्राप्त करनी होती है।
3. वरिष्ठ खंड अभियंता और मुख्य डिपो सामग्री अधीक्षक, रासायनिक और धातु अधीक्षक: इंजीनियरिंग में डिग्री की न्यूनतम योग्यता रखने वाले उम्मीदवार स्तर -7 वेतनमान में इन श्रेणियों के लिए पात्र हैं। उम्मीदवारों को कंप्यूटर आधारित टेस्ट (सीबीटी) में अर्हता प्राप्त करनी होती है।
4. मंत्रिस्तरीय और पृथक श्रेणियाँ (आशुलिपिक, अनुवादक, शिक्षक, खानपान, विधि सहायक, वैज्ञानिक पर्यवेक्षक, पुस्तकालयाध्यक्ष, फोटोग्राफर, प्रचार निरीक्षक, आदि): इन श्रेणियों के लिए केंद्रीकृत रोजगार अधिसूचना (CEN) में निर्धारित अनुसार उम्मीदवारों के पास अपेक्षित योग्यता होनी चाहिये। उम्मीदवारों को कंप्यूटर आधारित टेस्ट (सीबीटी) में अर्हता प्राप्त करनी होती है। कंप्यूटर पर स्टेनोग्राफी टेस्ट / टाइपिंग स्किल टेस्ट / ट्रांसलेशन टेस्ट जो भी आवश्यक हो, भी किया जाएगा।
5. पैरा-मेडिकल श्रेणियां (जैसे स्टाफ नर्स, फार्मासिस्ट, मेडिकल तकनीशियन, लैब अटेंडेंट, फिजियोथेरेपिस्ट, ऑप्टोमेट्रिस्ट, डाइटीशियन आदि): उम्मीदवारों के पास इन श्रेणियों के लिए केंद्रीयकृत रोजगार अधिसूचना (CEN) में निर्धारित अपेक्षित योग्यता होनी चाहिए। उम्मीदवारों को कंप्यूटर आधारित टेस्ट (सीबीटी) में अर्हता प्राप्त करनी होती है।
एनटीपीसी (अंडर ग्रेजुएट) श्रेणियाँ (जैसे कनिष्ठ लिपिक सह टाइपिस्ट, लेखा लिपिक सह टंकक, वाणिज्यिक लिपिक, रेलगाड़ी क्लर्क, टिकट परीक्षक): 12 (10 + 2) की न्यूनतम योग्यता रखने वाले अभ्यर्थी वाणिज्यिक लिपिक को छोड़कर जहां वेतनमान लेवल -3 हैं, लेवल -2 वेतनमान में इन श्रेणियों के लिए पात्र हैं। उम्मीदवारों को कंप्यूटर आधारित टेस्ट (सीबीटी) में अर्हता प्राप्त करनी होती है। कनिष्ठ लिपिक सह टाइपिस्ट और लेखा लिपिक सह टाइपिस्ट के लिए चयन करने वाले वाले उम्मीदवारों को कंप्यूटर आधारित टाइपिंग स्किल टेस्ट से गुजरना होगा।
Hindi to English: Birth Certificate/License
Detailed field: Certificates, Diplomas, Licenses, CVs
Source text - Hindi
फार्म नंबर 05
राजस्थान सरकार
अर्थशास्त्र और सांख्यिकी निदेशालय
जन्म प्रमाणपत्र
(पंजीकरण और जन्म और मृत्यु अधिनियम, 1969 की धारा 12/17 के तहत जारी और राजस्थान पंजीकरण और जन्म और मृत्यु नियम, 2000 के नियम 8/13)
यह प्रमाणित करना है कि निम्नलिखित जानकारी जन्म के मूल रिकॉर्ड से ली गई है जो राज्य / संघ राज्य क्षेत्र के तहसील / ब्लॉक के __________ जिला (स्थानीय क्षेत्र / स्थानीय निकाय) के लिए रजिस्टर है। STAMP - म्यूनिसिपल कॉर्पोरेशन, AJMER
नाम: Parinaaz सेक्स: महिला
जन्म तिथि: 05/05/1975 जन्म स्थान
जवाहरलाल नेहरू चिकत्सालय, अजमेर
माँ का नाम: नरगिस गोवेकर
माँ आधार नं।
पिता का नाम: जहानगर गोवेकर
पिता आधार नं।
बच्चे के जन्म के समय माता-पिता का पता
: नसीराबाद रोड अजमेर / अजमेर / राजस्थान अभिभावकों का स्थायी पता:
: नसीराबाद रोड अजमेर / अजमेर / राजस्थान

पंजीकरण क्रमांक। :
261/1975 पंजीकरण की तिथि: 4
28/05/1975
यदि कोई हो तो टिप्पणी: हस्ताक्षर मान्य
प्रदीप कुमार गुप्ता द्वारा डिजिटली हस्ताक्षरित
दिनांक 2019.07.27 14.34 IST
कारण: दस्तावेज़ स्वीकृत
जारी करने की तारीख: 27/07/2019 जारी करने वाले प्राधिकरण के हस्ताक्षर
जारी करने वाले अधिकारी का पता
नोट: "माता-पिता का पता" और "माता-पिता का स्थायी पता" के कॉलम से संबंधित बच्चे की जानकारी के जन्म के समय 01/01/2007 से पहले आवेदन नहीं किया गया था
राजस्थान सरकार के अर्थशास्त्र और सांख्यिकी विभाग के परिपत्र संख्या एफ 13/1/39 / वीएस / डीईएस / 2013 // 22519 द्वारा जन्म और मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने के लिए डिजिटल सिग्नेचर के उपयोग को मान्यता दी गई है।
सॉफ्टवेयर सौजन्य राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी), राजस्थान प्रमाण पत्र http://pehchan.raj.ni.in पर देखा जा सकता है
Translation - English
FORM NO 05
Government of Rajasthan
Directorate of Economics & Statistics
BIRTH CERTIFICATE
(Issued under section 12/17 of the Registration and Births and Death Act, 1969 and Rule 8/13 of the Rajasthan Registration of Births and Deaths Rules, 2000)
This is to certify that following information has been taken from the original record of Birth which is the register for (local area/Local body) __________ of Tehsil / Block ______ District _____ of State / Union Territory. STAMP – MUNICIPAL CORPORATION , AJMER
Name : Parinaaz Sex : Female
Date of Birth : 05/05/1975 Place of Birth
Jawaharalal Nehru Chiktsalaya, Ajmer
Name of Mother : Nargis Govekar
Mother Aadhar No.
Name of Father : Jahanger Govekar
Father Aadhar No.
Address of parents at the time of birth of the child
:Nasirabad Road Ajmer/Ajmer/Rajasthan Permanent Address of the parents :
:Nasirabad Road Ajmer/Ajmer/Rajasthan

Registration No. :
261/1975 Date of Registration :4
28/05/1975
Remarks if any : Signature Valid
Digitally signed by Pradeep Kumar Gupta
Date 2019.07.27 14.34 IST
Reason : Document Approve
Date of issue : 27/07/2019 Signature of Issuing Authority
Address of issuing Authority
Note: At the time of birth of child information related to columns of “Address of the parents” and “Permanent Address of the parents” were not apply before 01/01/2007
By the Circular Number F 13/1/39/VS/DES/2013//22519 of Economics & Statistics Department of Government of Rajasthan dated 02.06.2015 to issue Birth and Death Certificate the use Digital Signature has been recognized.
Software Courtesy National informatics Centre (NIC) , Rajasthan certificate can be tracked on http://pehchan.raj.ni.in
Hindi to English: Clinical Research Consent Form
General field: Medical
Detailed field: Medical (general)
Source text - Hindi
Informed consent form for Individual Interviews with Women of Reproductive Age – WRA (18-49 yrs) in India


Project ACTION: Prioritizing user needs to accelerate contraceptive innovation. A Bill & Melinda Gates Foundation funded initiative to better understand unmet needs and preferences on female Modern Contraceptive Methods, Phase I

PRINCIPAL INVESTIGATOR
Cristin Marona, Director of Positive Change, Social & Behavorial, Matchboxology
The Workshop Building, 70 7th Ave, Johannesburg 2193, South Africa
+255656579102 [email protected]


INTRODUCTION
Hello. My name is __________________________ and these are my colleagues [names]. We are asking you to take part in research study to understand what product attributes different women would most want in their ideal contraceptive method.

If you agree to be in this research study you will be interviewed. The aim of this interview is to better understand what you think about the different ways to prevent pregnancy that are currently available here; and your ideas on NEW WAYS to help women like you prevent unplanned pregnancies.

PURPOSE OF STUDY
You are being asked to take part in a research study. Before you decide to participate in this study, it is important that you understand why the research is being done and what it will involve. We will read out this form and tell you what will happen during this interview so you can decide whether or not you want to take part in it. If there is anything that is not clear or if you need more information, you can ask me to explain it again.

About 240 women in two countries will take part in this study. During the interview, we will ask you questions about:
1. Your own life and about how you and women like you think about contraceptive use;
2. Your daily life, relationships, access to healthcare, pregnancy plans, and ways to prevent pregnancy.
3. Family planning journey and reasons for use, non-use, or discontinuation of method/s.
4. How the method choice can be improved for you and what kind of product attributes you would like in your ideal contraceptive method.
CONFIDENTIALITY
Your responses to this interview will be anonymous. The interview is verbal and will not be recorded. Some of my colleagues will be taking notes as we talk, so we can make an exact written record of what was said, but we will not record your name/s or any other identifiers.

RISKS
We think that there are limited risks to you in taking part in this study. We will not use your real name, location or take any other identifying details (address, phone number, etc.) as part of this interview. Some questions might make you feel uncomfortable. All questions in the interview and workshop are voluntary. You may decline to answer any or all questions and you may terminate your involvement at any time if you choose. If It is possible that others will overhear our conversation. We will do our best to prevent that from happening by speaking to you in a private or semi-private location.

While we will treat your personal information with utmost confidentiality, given the nature of the topics of discussion (reproductive health, family planning and contraception) it is possible that the mere knowledge of you participating in this research might put you at risk. We want you to be aware of this risk, and would advise you not reveal outside the information discussed or shared today.

BENEFITS
There will be no direct benefit to you for your participation in this study. But the results should help us develop new ways to help women avoid unplanned or unwanted pregnancies.

COMPENSATION
We will reimburse you for your travel expenses, if the interview is conducted in an external location.

VOLUNTARY PARTICIPATION
Your participation in this study is voluntary. It is up to you to decide whether or not to take part in this study. If you decide to take part in this study, you will be asked to sign a consent form. After you sign the consent form, you are still free to withdraw at any time and without giving a reason. Withdrawing from this study will not affect the relationship you have, if any, with the researcher. If you withdraw from the study before data collection is completed, your data will not be used. This decision will also not affect your ability to receive compensation for travel to the external interview location (if applicable).

PUBLICATION
The discussions we have today will help us present scientific groups with new insights on how to develop better contraceptive technology for women. We may publish reports or articles to present findings from this workshop to different stakeholders who are involved in developing contraceptive technology. The final research report will be shared with the Ministry of Health and Family Welfare (MOHFW). These reports will be for internal use purposes, but may also be published and accessed on internet sites in the future. However, your identity and name will NOT be revealed in any of those reports, articles, or presentations.

You can take as long as you like before you make a decision. We will be happy to answer any question you have about this study. If you have further questions about this study or if you have a research-related problem, you may contact Ms. Rikta Krishnaswamy, Mobile no. +91 7338129529


CONSENT
I have read and I understand the provided information and have had the opportunity to ask questions. I understand that my participation is voluntary and that I am free to withdraw at any time, without giving a reason and without cost. I understand that I will be given a copy of this consent form. I voluntarily agree to take part in this study.


PARTICIPANT AGREEMENT

Do you want to take part in this research? 0 Yes 0 No


Participant's signature ______________________________ Date __________




Investigator's signature _____________________________ Date __________

Translation - English
भारत में प्रजनन आयु - डव्ल्युआरए (18-49 वर्ष) की महिलाओं के निजी इंटरव्यु के लिए सूचित सहमति फाॅर्म

परियोजना कार्य: गर्भनिरोधक नवाचार में तेजी लाने के लिए उपयोगकर्ता की आवश्यकताओं को प्राथमिकता देना। महिला (फीमेल) आधुनिक गर्भनिरोधक विधियां चरण एक पर पूरी नहीं हुईं जरूरतों और वरीयताओं को बेहतर ढंग से समझने के लिए बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन द्वारा वित्त-पोषित एक पहल।


मुख्य जांचकर्ता

क्रिस्टनमेरोना, डारेक्टर आॅफ पोजीटिव चेंज, सोशल एण्ड बिहेवरियल मेचबाॅक्सोलाॅजी
द वर्कशाॅप बिल्डिंग, 70 7 ऐव जोहनेसबर्ग 2193, दक्षिण अफ्रीका।
़255656579102ब्तपेजपद/उंजबीइवगवसवहलण्बवउ


परिचय

नमस्कार। मेरा नाम -------- है और ये मेरे सहकर्मी (नाम) हैं। हम आपको इस रिसर्च स्टडी में भाग लेने के लिए आमंत्रित कर रहे हैं, जिसमें हम ये जानना चाहते हैं कि अलग-अलग महिलाओं को उनके आदर्श गर्भनिरोधक तरीके में उत्पाद के कौन से गुण सबसे ज्यादा पसंद हैं।

यदि आप इस रिसर्च स्टडी में भाग लेने की सहमति व्यक्त करते हैं तो आपका इंटरव्यू लिया जाएगा। इस इंटरव्यू का उद्देश्य बेहतर ढंग से यह समझना है कि गर्भावस्था को रोकने के लिए आज जो तरीके उपलब्ध हैं, उनके बारे में आप क्या सोचते हैं, और आप अनियोजित गर्भवस्था में मदद करने के नए तरीकों को विकसित करने के बारे में आपकी क्या राय है।

अध्ययन का उद्देश्य

आपसे इस रिसर्च स्टडी में भाग लेने के लिए कहा जा रहा है। इससे पहले कि आप इस अध्ययन में भाग लेने का फैसला करें, आपको यह समझना जरूरी है कि यह रिसर्च क्यों किया जा रहा है और इसमें क्या शामिल होगा। हम इस फाॅर्म को पढ़ेंगे और बतायेंगे कि इस इंटरव्यु के दौरान क्या होगा जिससे कि आप फैसला कर सकें कि क्या आप इस अध्ययन में भाग लेना चाहती हैं या नहीं। यदि ऐसा कुछ है जो आपको स्पष्ट नहीं है या आपको और अधिक जानकारी की जरूरत है, तो आप मुझसे दुबारा बताने/समझाने के लिए कह सकती हैं।

इस अध्ययन में दो देशों से लगभग 240 महिलाएं भाग लेंगी। इंटरव्यू के दौरान, हम आपसे निम्नलिखित के बारे में सवाल पूछेंगेः
1. आपके जीवन के बारे में और आप तथा आपके जैसी महिलाएं परिवार नियोजन साधनों के इस्तेमाल के बारे में क्या सोचती हैं;
2. आपके दैनिक जीवन, स्वास्थ्य देखभाल पर पहुंच, गर्भावस्था योजना, और गर्भावस्था को रोकने के तरीकों के बारे में।
3. परिवार नियोजन यात्रा और विधि/यों के इस्तेमाल करने, इस्तेमाल न करने या इस्तेमाल करना बंद करने के कारण।
4. आपके लिए विधि विकल्प/चुनाव में कैसे सुधार किया जा सकता है और अपनी आदर्श गर्भनिरोधक विधि में आप किस प्रकार के उत्पाद गुण चाहेंगे।
गोपनीयता
इस इंटरव्यु में आपकी प्रतिक्रियाओं को अनाम (बिना नाम के) रखा जायेगा। इंटरव्यु मौखिक है और रिकॉर्ड नहीं किया जाएगा। जब हम बात करेंगे, तो मेरे कुछ सहयोगी नोट्स लेंगे, जिससे जो कुछ कहा गया था, उसका हम सटीक लिखित रिकॉर्ड बना सकते हैं, लेकिन हम आपका नाम या कोई अन्य पहचान रिकॉर्ड नहीं करेंगे।

खतरा
हमारा मानना है कि इस अध्ययन में भाग लेने से आपको सीमित खतरा है। इस इंटरव्यु के भाग के तौर पर, हम आपके वास्तविक नाम, जगह का इस्तेमाल नहीं करेंगे और न ही कोई अन्य पहचान विवरण (पता, फोन नम्बर आदि) लेंगे। कुछ सवालों को सुनकर आप दिक्कत महसूस कर सकती हैं। इंटरव्यु और वर्कशाॅप के सभी सवाल स्वैच्छिक हैं। आप किसी भी या सभी सवालांे का जवाब देने से मना कर सकती हैं और किसी भी समय इंटरव्यु में भाग लेने से मना कर सकती हैं। ऐसा संभव है कि हमारे बीच हुई बातचीत को कोई सुन लें। इसके लिए हम आपसे किसी गुप्त या अर्द्ध-गुप्त जगह पर बात करेंगे ताकि ऐसा होने से रोका जा सके।

चर्चा के विषयों (प्रजनन स्वास्थ्य, परिवार नियोजन और गर्भनिरोधक) की प्रकृति को देखते हुए, हम आपकी निजी जानकारी को अत्यंत गोपनीय बनाए रखना का हर संभव प्रयास करेंगे फिर भी यह संभव है कि इस शोध में भाग लेने से आपको कोई खतरा हो सकता है। हम चाहते हैं कि आप इस खतरे से अवगत हों और आपको सलाह देंगे कि आज चर्चा की गई या साझा की गई जानकारी को बाहर किसी को न बताएं।

लाभ

इस अध्ययन में भाग लेने से आपको कोई सीधा लाभ प्राप्त नहीं होगा। लेकिन परिणामों से हमें महिलाओं को अनियोजित या अनचाही गर्भावस्थाओं से बचने में मदद करने के लिए नई विधियों को विकसित करने में मदद मिलेगी।

प्रतिपूर्ति

अगर आपका इंटरव्यु किसी बाहरी जगह पर आयोजित किया जाता है, तो हम आपकी यात्रा के खर्चों की प्रतिपूर्ति करेंगे।

स्वैच्छिक भागीदारीण्
इस अध्ययन में आपकी भागीदारी स्वैच्छिक है। यह आपको फैसला करना है कि आप इस अध्ययन में भाग लेना चाहती हैं या नहीं। अगर आप इस अध्ययन में भाग लेने का फैसला करती हैं, तो आपसे एक सहमति फाॅर्म पर हस्ताक्षर करने के लिए कहा जायेगा। हालांकि सहमति फाॅर्म पर हस्ताक्षर करने के बाद भी आप कभी भी, बिना कोई कारण बताएं अध्ययन को छोड़ सकती हैं। इस अध्ययन को छोड़ने से, शोधकर्ता के साथ आपके रिश्ते पर (अगर कोई है) कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। अगर आप डेटा एकत्र किये जाने से पहले अध्ययन छोड़ती हैं, तो आपका डेटा इस्तेमाल नहीं किया जायेगा। यह फैसला भी बाहरी जगह पर इंटरव्यु (यदि लागू हो) करने के लिए यात्रा हेतु प्राप्त होने वाली प्रतिपूर्ति की योग्यता पर प्रभाव नहीं डालेगा।
प्रकाशन
आज की चर्चाएं हमें वैज्ञानिक समूहों को नई समझ प्रदान करने में मदद करेंगी जिससे महिलाओं के लिए बेहतर गर्भनिरोधक तकनीक विकसित हो सके। इस कार्यशाला (वर्कशाॅप) से प्राप्त जांच-परिणामों को हम विभिन्न अंशधारकों, जोकि गर्भनिरोधक तकनीक को विकसित करने में शामिल हैं, के लिए रिपोर्ट्स या लेख के रूप में प्रकाशित कर सकते हैं। अंतिम शोध रिपोर्ट स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय(एमओएचएफडव्ल्यु) को साझा की जायेगी। ये रिपोटर््स आंतरिक उपयोग उद्देश्यों के लिए होंगी, लेकिन भविष्य में इन्हें प्रकाशित भी किया जा सकता है या और इंटरनेट साइट पर इनकी पहुंच हो सकती है। हालांकि, इस तरह की किसी भी रिपोर्ट, लेख या प्रस्तुति में आपकी पहचान या नाम उजागर नहीं किया जायेगा।

फैसला लेने के लिए आपको जितना समय चाहिए, आप ले सकती हैं। इस अध्ययन के बारे में आपके किसी भी सवाल का जवाब देने में हमें खुशी होगी। यदि इस अध्ययन के बारे में आप अभी भी कुछ और सवाल पूछना चाहती हैं, तो कृपया रिक्ता कृष्णास्वामी से उनके मोबाइल नम्बर ़़917338129529 पर सम्पर्क करें।


सहमति
मैंने दी गई जानकारी को पढ़ व समझ लिया है और मुझे सवाल पूछने का मौका मिला। मैं समझती हूं कि इस अध्ययन में मेरी भागीदारी स्वैच्छिक है और मैं किसी भी समय, बिना कोई कारण बताएं और बिना किसी लागत के इस अध्ययन को छोड़ सकती हूं। मैं समझती हूं कि मुझे इस सहमति फाॅर्म की एक प्रति प्रदान की जायेगी। मैं अपनी मर्जी से इस अध्ययन में भाग लेने की सहमति देती हूं।


सहभागी सहमति

क्या आप इस शोध में भाग लेना चाहती हैं? 0 हां 0 नहीं


भागीदार के हस्ताक्षर -------------------- दिनांक --------------------------





शोधकर्ता के हस्ताक्षर -------------------- दिनांक --------------------------
English to Hindi: Press Release
General field: Other
Detailed field: Journalism
Source text - English
Salman Khan Emerges as the Top Bollywood Newsmaker of 2019

● Priyanka Chopra beats Shahrukh Khan in terms of News
● Gully boy was the biggest highlight of 2019
● Despite making no movie this year, King Khan still remains one of the topmost newsmakers in the industry

17 December 2019. Bollywood proved its mettle once again this year with back to back blockbusters and impressive movies like Gully Boy, Badla, Mission Mangal etc. Wizikey, Asia’s first PR and communication platform has collated interesting trends across the Bollywood industry using it’s AI and ML-based Technology and created a report on the top newsmakers of 2019 in this category.

It was also surrounded by lots of gossips including the closeness in Alia and Ranbir, Bollywood Mela at Akash Ambani and Shloka Mehta's Wedding and Priyanka Chopra Jonas creating a lot of buzz in Hollywood. While the grand old industry continued its trend of prominence some stars overshadowed the others. Here are the top newsmakers in the Bollywood category for the year 2019.
Ansul Sushil, Founder and CEO of Wizikey said, “Always interesting to see which stars shone the brightest among the constellation called Bollywood. These Top Newsmakers of Bollywood made much more news around their life events than just the movies they’re in. The AI and ML capabilities of Wizikey is helping us see the insights which help us understand the media landscape better”.

Moving away from the whole hit and run fiasco, Salman Khan in 2019, was able to successfully put all that behind him and generate visibility for himself through his movies like Dabangg 3 and Bharat. Like every year, Bigg Boss also added to the star’s visibility throughout the show’s season. There were some rumours surrounding the second edition of Kick which were soon squashed by Sajid Nadiadwala to the dismay of many of Salman’s fans.

Akshay Kumar’s year in the media’s spotlight was dominated by news surrounding his movie Mission Mangal which told the story of how India reached the red planet. The actor was also in the news for his upcoming movies like Laaxmi Bomb, Housefull 4 and Good Newzz. Akshay closed the year on an unrelated note though when his application for Indian citizenship was widely covered in the media.

The Quantico actor had a healthy amount of visibility in the media in 2019. Although not all of it was positive with a petition to remove Priyanka Chopra as the UN Goodwill Ambassador, the release of her film, The Sky is Pink made up for it in the latter part of the year. Her recent induction into the Jonas family also meant she was mentioned alongside the brothers most of which came during Joe Jonas’ wedding with Sophie Turner.

It is no surprise that the king of Bollywood, SRK was one of the biggest newsmakers of the year. Even though SRK has had no major releases in 2019, he was constantly in the news throughout the year. This is a testament to how big a brand SRK is and how you can not talk Bollywood without mentioning Shah Rukh Khan. SRK’s appearance on David Letterman’s show, My Next Guest Needs No Introduction, was the talk of the town for quite a while and as always the king’s birthday was celebrated with the same intensity as a festival like Diwali or Holi.

Alia Bhatt had a stellar year both on the screen and in the media’s limelight. The young star was in the news from start to finish of the year. Having started the year with engagement plans with Ranbir in 2020 to closing the year with awards for the super hit film, Gully Boy. It is safe to say Alia has been able to successfully transform her image in the media from a rather misinformed, dumb teen to a rising star of incredible potential.

Translation - Hindi
वर्ष 2019 में सलमान खान टॉप बॉलीवुड न्यूजमेकर के तौर पर उभरे
● खबरों में छाये रहने के मामले में प्रियंका चोपड़ा ने शाहरूख खान को पछाड़ा
● गुली बॉय वर्ष 2019 की सबसे ज्यादा सुर्खियां बटोरने वाली फिल्म
इस साल कोई भी मूवी न देने के बावजूद, किंग खान अभी भी इंडस्ट्री के सबसे बड़े न्यूजमेकर a

17 दिसम्बर 2019: गुलीबॉय, बदला, मिशन मंगल जैसी एक के बाद एक ब्लॉकबस्टर और प्रभावशाली मूवी देने के बाद, बॉलीवुड ने इस साल भी अपनी योग्यता साबित की। एशिया के पहले PR और कम्युनिकेशन प्लेटफार्म Wizikey ने अपने AI तथा ML- आधारित टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते हुए बॉलीवुड इंडस्ट्री के रोचक ट्रेंड की गहन जाँच की तथा इस केटेगेरी में वर्ष 2019 के शीर्ष न्यूजमेकरों पर एक रिपोर्ट तैयार की।
इसके साथ ही इस साल बालीबुड तमाम गॉसिप से भी घिरा रहा है जिसमें आलिया और रनबीर में नजदीकियां, आकाश अम्बानी और श्लोका मेहता की वेडिंग से जुड़ा बॉलीवुड मेला आदि शामिल हैं और इसके साथ ही हॉलीबुड में प्रियंका चोपड़ा -जोनास के किस्सों ने भी खूब सुर्खियां बटोरीं। ऐसे में जब यह शानदार इंडस्ट्री सालभर अपनी चमक बिखेरती रही, कुछ सितारों के स्टारडम में भी उतार-चढ़ाव देखने को मिले। वर्ष 2019 की बॉलीवुड केटेगरी के टॉप न्यूजमेकर इस प्रकार रहे :
Wizikey के फाउंडर तथा सीईओ अंशुल सुशील ने कहा, ‘‘ यह जानना हमेशा ही दिलचस्प होता है कि बॉलीवुड का नक्षत्र कहलाये जाने वाले इन सितारों में किसने सबसे ज्यादा चमक बिखेरी। बॉलीवुड के इन शीर्ष न्यूजमेकरों की केवल मूवी से जुड़ी खबरें ही सालभर नहीं छायी रहीं बल्कि उनके जीवन की घटनाएं ज्यादा सुर्खियों में थीं। Wizikey के AI और ML क्षमताएं हमें सूक्ष्म दृष्टि से आंकलन करने में मदद कर रही हैं, जिनसे हमें मीडिया लेंडस्केप को बेहतरढंग से समझने में मदद मिली”।

साल 2019 में ज्यादा फिजूलखर्ची से दूर रहते हुए, सलमान खान अपनी पूरी ताकत को झोंकने में सफल रहे और दबंग 3 और भारत जैसी सफल फिल्मों की बदौलत उन्होंने एक बार फिर अपनी शानदार उपस्थिति दर्ज की। हर साल की तरह, इस साल भी बिग बॉस के शो सीजन के दौरान इसके सितारों ने अपने प्रदर्शन से खूब धूम मचायी। इस बीच किक का दूसरा पार्ट बनाये जाने की अफवाहें भी फैलीं। लेकिन साजिद नाडियावाला ने जल्दी ही इन अफवाहों का खंडन कर दिया जिससे सलमान खान के कई प्रशंसकों को निराशा हाथ लगी।

इस साल अक्षय कुमार की मूवी मिशन मंगल खूब खबरों में रही। इस मूवी में दिखलाया गया था कि किस प्रकार हम मंगल ग्रह पर पहुंच पाये थे। इसका अलावा अक्षय कुमार लक्ष्मी बम, हाउसफुल 4 और गुड न्यूज जैसी आगामी फिल्मों को लेकर भी सुर्खियों में हैं। इस साल अक्षय कुमार की भारतीय नागरिकता के आवेदन को लेकर भी कुछ मामले मीडिया में तेजी से कवर किये गये थे।

प्रियंका चोपड़ा भी सालभर मीडिया में छायी रहीं। हालांकि इस वर्ष के अंत में जब उनकी फिल्म द स्काई इज पिंक रीलीज हुई, तो उन्हें संयुक्त राष्ट्र के सद्भावना राजदूत पद से हटाने की एक याचिका दायर की गई। यह खबर कहीं से भी इस एक्ट्रेस के लिए सहज नहीं थी। दूसरी तरफ जोनास फैमिली में उनके प्रवेश ने इस वर्ष खूब चर्चाएं बटोरीं विशेषकर तब जब जो जोनास ने सोफी टर्नर के साथ विवाह रचाया था, तो जोनास भाईयों के साथ प्रियंका का नाम भी खूब खबरों में रहा।

It is no surprise that the king of Bollywood, SRK was one of the biggest newsmakers of the year. Even though SRK has had no major releases in 2019, he was constantly in the news throughout the year. This is a testament to how big a brand SRK is and how you can not talk Bollywood without mentioning Shah Rukh Khan. SRK’s appearance on David Letterman’s show, My Next Guest Needs No Introduction, was the talk of the town for quite a while and as always the king’s birthday was celebrated with the same intensity as a festival like Diwali or Holi.

इसमें कोई आश्चर्य नहीं है कि बॉलीवुड के किंग, SRK इस साल के सबसे बड़े न्यूजमेकरों में से एक थे। हालांकि इस साल SRK की कोई मूवी नहीं आयी फिर भी, वह लगातार खबरों में छाये रहे। यह इस बात का प्रमाण है कि SRK एक इतना बड़ा ब्रांड है कि शाहरूख खान के बिना बॉलीवुड पर बात करना असंभव है। डेविड लैटरमेन के शो - माई नेक्स्ट गेस्ट नीड्स नो इंट्रोडक्शन में SRK की भूमिका शहर की चर्चा बन गई और हमेशा की तरह इस साल भी किंग खान का बर्थडे दीवाली या होली जैसे फेस्टिवल की तरह ही धूमधाम से मनाया गया ।

आलिया भट्ट बॉलीवुड का वो सितारा है जिसने ऑन स्क्रीन और मीडिया दोनों पर ही सालभर अपनी चमक बिखेरी। यह युवा अभिनेत्री साल की शुरूआत से लेकर अंत तक खबरों में रही। साल की शुरूआत में खबर आई कि वह साल 2020 में रनबीर के साथ सगाई करेंगी तो साल गुजरने से पहले ही अपनी सुपर हिट फिल्म गुली बॉय के लिए खिताब पाने की खबर से मीडिया में छा गयीं। यह कहना मुश्किल नहीं होगा कि मीडिया में अब उसकी छवि एक टीनेज कलाकार से आगे जाकर एक सफल अदाकारों में हो गयी है।



Translation education Master's degree - IGNOU
Experience Years of experience: 15. Registered at ProZ.com: Dec 2008. Became a member: May 2010.
ProZ.com Certified PRO certificate(s) N/A
Credentials English to Hindi (IGNOU)
English to Hindi ()
Hindi to English (IGNOU)


Memberships N/A
Software Adobe Acrobat, Adobe Illustrator, Adobe Photoshop, memoQ, Microsoft Excel, Microsoft Word, Pagemaker, Powerpoint, QuarkXPress, SDL TRADOS
Website http://www.proz.com/profile/986650
CV/Resume English (DOC)
Professional practices Rajul Kumar endorses ProZ.com's Professional Guidelines.
Professional objectives
  • Meet new translation company clients
  • Meet new end/direct clients
  • Network with other language professionals
  • Find trusted individuals to outsource work to
  • Get help with terminology and resources
  • Learn more about translation / improve my skills
  • Get help on technical issues / improve my technical skills
  • Learn more about additional services I can provide my clients
  • Learn more about the business side of freelancing
  • Find a mentor
  • Stay up to date on what is happening in the language industry
  • Transition from freelancer to agency owner
  • Transition from freelancer to another profession
  • Buy or learn new work-related software
  • Improve my productivity
Bio

Service : Translator, Transcriber, Proofreader, Editor, Subtitling 

Native Language - Hindi 

Language pair - English >< Hindi 

Experience - 15 Years 

CAT Tools : MemoQ, SDL Trados

Working For - Worldwide Translation Agencies/Companies, Direct Clients. 

Specialization : Art, Advertising &
Marketing, Books, Broadcast Media, Business Research, Clinical Trial,
  Creative & Media, Entertainment,
Environment, Fashion,
  Films, Food,
General, Health, Health Care, Journalism, Literature, Marketing/PR, Marketing
Research, Medical, Media & Publication, Manuals, New Media, News, Religion,
Subtitling, Spiritualism, Travel & Tourism, TV, TV Listing,
  Telecom etc.    

This user has earned KudoZ points by helping others translate terms through ProZ.com. Click point total to see term translations provided.

Total pts earned: 4
(All Non-PRO level)


This user has reported completing projects in the following job categories, language pairs, and fields.

Project History Summary
Total projects1
With client feedback0
Corroborated0
0 positive (0 entries)
positive0
neutral0
negative0

Job type
Translation1
Language pairs
English to Hindi1
Specialty fields
Other fields
interpretorraj's Twitter updates
    Keywords: Translation, Proofreading, Subtitling, Typesetting, Transcription Services, Subtitling, Press Release, Power Point Presentation Services, Tele Film, Documentary, Advertisement, Production, Hindi, English, Birth Certificate, Death Certificate Marksheet, Degree, CV, Diploma, Certified Translation, Passport Translation, Birth/Death, Marriage/Divorce Certificates, University Transcripts, Contracts and legal documents, Wills & Trusts, Academic Degrees & Transcripts, Adoption Papers, Official Government Documents, Testimonies, Employment Letters, Financial Statements, Contracts, Police Records, Leases, Visa Application Documents, Market Research, Dubbing etc.




    Profile last updated
    Nov 8, 2020



    More translators and interpreters: English to Hindi - Hindi to English   More language pairs



    Your current localization setting

    English

    Select a language

    All of ProZ.com
    • All of ProZ.com
    • Term search
    • Jobs
    • Forums
    • Multiple search